करवा चौथ व्रत

Views: 33

 करवा चौथ व्रत
– पति की लंबी आयु के लिए किया जाता है व्रत
– संकल्प शक्ति का प्रतीक है करवा चौथ व्रत
– अखंड सौभाग्य की कामना का व्रत है करवा चौथ
– कार्तिक माह में कृष्ण पक्ष की चतुर्थी तिथि को किया जाता है व्रत
————————————————————-
 पूजन सामग्री
– धूप, दीप, कपूर, रोली, चंदन, सिंदूर
– काजल, पुष्प, मेहंदी, चूड़ी, बिछिया, बिंदी
– कुमकुम, सिंदूर, कंघी, महावर
– बाजार में उपलब्ध सुहाग पुड़ा
– खीर, पुआ, फल, मिठाई
– सूखा मेवा, पूड़ी और गुड का हलवा
——————————————————-
 श्री चंद्र अर्घ्य
– चंद्रमा का चित्र अग्निकोण में स्थापित करें
– चावल को भिगो कर पीस लें
– पिसे चावल का गोल आकार बनाएं
– चापल की पीठी से 5 लंबी डंडियां बनाएं
– गोलाकार चंद्र के ऊपर पूर्व से पश्चिम तक 4 डंडियां लगाएं
– पांचवी डंडी थोड़ी चौड़ी बनाएं, आकृति चौथ के चांद जैसी होना चाहिए
– चंद्र देव का पूजन करें
– चंद्र को अर्घ्य पूजा सम्पन्न करें
– चंद्र स्तुति, पूजन, आराधना विशेष फलदायी होती है
————————————————————-
– सौभाग्यवती स्त्रियां लाल वस्त्र पहनें
– हाथों में मेहंदी लगाएं
– सोलह श्रृंगार करें
– शुभ मुहूर्त में भगवान शिव और मां पार्वती की पूजा करें
– करवा चौथ की कथा सुनें
– माता पार्वती को सुहाग सामग्री चढ़ाएं
————————————————————–
‘करवा चौथ’ शुभ मुहूर्त
– शनिवार शाम 7:42 पर करें पूजा
– चंद्रोदय का समय शाम 7:42
– चतुर्थी तिथि शनिवार शाम 6:38 से रविवार शाम 4:55 बजे तक
——————————————————–
करवा चौथ पूजा विधि
– सुबह स्नान के बाद व्रत का संकल्प लें
– घर की दीवार पर गेरू से फलक बनाकर पिसे चावलों के घोल से करवा चित्र बनाएं
– आठ अठावरी, हलवा, पक्के पकवान बनाएं
– पीली मिट्टी से गौरी बनाएं साथ ही गणेश जी बनाकर गौरी की गोद में बिठाएं
– गौरी को लकड़ी के आसन पर बिठाएं, चौक बनाकर आसन को उस पर रखें
– गौरी को चुनरी ओढ़ाएं
– सुहाग सामग्री से गौरी का श्रृंगार करें
– जल से भरा हुआ लोटा रखें
– करवा में गेहूं और ढक्कन में शक्कर का बूरा भर दें, दक्षिणा रखें
– रोली से करवा पर स्वास्तिक बनाएं
– गौरी-गणेश और करवा की पूजा करें
– पति की दीर्घायु की कामना करें
– करवा पर 13 बिंदी रखें
– गेहूं या चावल के 13 दाने हाथ में लेकर करवा चौथ की कथा सुनें
– करवा पर हाथ घुमाकर सास के पैर छूकर आशीर्वाद लें और करवा उन्हें दे दें
– रात्रि में चंद्रमा निकलने के बाद छलनी की ओट से उसे देखें और चंद्रमा को अर्घ्य दें
– पति से आशीर्वाद लें
– पति को भोजन कराएं और स्वयं भी भोजन करें
———————————————–
पति की आयु होगी लंबी
नमः शिवायै शर्वाण्यै सौभाग्यं संतति शुभाम्।
प्रयच्छ भक्तियुक्तानां नारीणां हरवल्लभे॥
———————————————————
16 श्रृंगार में क्या है ?
– सिंदूर
– काजल
– मेहंदी
– शादी का विशेष परिधान
– गजरा
– टीका
– नथ
– कानों के कुंडल
– मंगल सूत्र
– हार
– बाजूबंद
– चूड़ियां या कंगन
– अंगूठी
– कमरबंद
– बिछुएं
– पायल
—————————————————————–
काजल क्यों जरूरी ?
– आंखों की सुंदरता बढ़ती है
– स्त्रियां पर बुरी नजर का कुप्रभाव नहीं पड़ता
– आंखों संबंधी रोगों से बचाव होता है

मेहंदी क्यों जरूरी ?
– मेहंदी के बिना शृंगार अधूरा माना जाता है
– मेहंदी जितनी अच्छी रचेगी, पति-पत्नी के संबंध उतने ही मधुर होंगे

लाल जोड़ा क्यों जरूरी ?
– लाल रंग सुहाग का प्रतीक
– दुल्हन को विवाह में लाल रंग का ही जोड़ा पहनना चाहिए
– धार्मिक कर्म में पत्नी को लाल परिधान पहनना चाहिए

बिंदी का महत्व
– सुहागिन स्त्री को बिंदी जरूर लगानी चाहिए
– लाल और गोल बिंदी सबसे शुभ
– कुमकुम या सिंदुर से माथे पर लाल बिंदी जरूर लगाना चाहिए
– ऐसा करने से परिवार की समृद्धि बढ़ती है

 बिंदी लगाने के लाभ
– बिंदी लगाने से मन एकाग्र होता है
– मन शांत रहता है
– सिरदर्द कम होता है
– चेहरे, गर्दन, पीठ, ऊपरी शरीर की मांसपेशियों को आराम मिलता है
– अनिद्रा की समस्या दूर होती है
– जहां बिंदी लगाई जाती है, उस जगह की नसें और आंखों की नसों का होता है संबंध
– झुर्रियां कम दिखाई देती हैं
– चेहरे की मांसपेशियों में रक्त प्रवाह शुरू हो जाता है, जिससे स्किन टाइट और पोषित होती है

मंगलसूत्र का महत्व
– सौभाग्यवती स्त्री की सबसे बड़ी निशानी है मंगलसूत्र
– विवाह के बाद मंगलसूत्र पहनना अनिवार्य
– मंगलसूत्र में काले मोती शिव और सोना माता पार्वती का प्रतीक
– स्त्री को बुरी नजर से बचाता है मंगलसूत्र
– काले मोती पति-पत्नी और परिवार को बुरी नजर से बचाते हैं
– मंगलसूत्र पहनने वाली महिला और उसके पति पर शिव कृपा बनी रहती है

मंगलसूत्र का ग्रहों से संबंध
– मंगलसूत्र का पीला धागा और सोना या पीतल बृहस्पति का प्रतीक
– मंगलसूत्र पहनने से बृहस्पति मजबूत होता है

मंगलसूत्र और सावधानियां
– मंगलसूत्र या तो स्वयं खरीदें या अपने पति से लें
– मंगलसूत्र किसी से उपहार में न लें और न ही दें
– मंगलसूत्र मंगलवार को न खरीदें
– धारण करने के पूर्व इसे मां पार्वती को अर्पित करें
– जब तक बहुत ज्यादा जरूरी न हो मंगलसूत्र न उतारें
– अगर उतारना भी पड़े तो गले में काला धागा जरूर पहनें
– मंगलसूत्र एक बार पहनने के बाद उतारा नहीं जाता
– मंगलसूत्र को बार-बार उतारना अशुभ
– एक समय में सिर्फ एक ही मंगलसूत्र का उपयोग करें
– मंगलसूत्र सिर्फ गले में ही पहनें
– किसी दूसरे का मंगलसूत्र न पहनें, ऐसा करने से पति का आयु कम होती है, दांपत्य जीवन में तनाव बढ़ सकता है

 मांग में सिंदूर का महत्व
– विधि पूर्वक सिंदूर लगाने से पति की आयु लंबी होती है
– सिंदूर का लाल रंग शक्ति का प्रतीक
– सिंदूर देवी लक्ष्मी का प्रतीक
– देवी लक्ष्मी पृथ्वी पर पांच स्थानों पर रहती हैं और उन्हें सिर पर स्थान दिया गया है
– जो महिलाएं देवी का स्मरण कर रोजाना मांग में सिंदूर भरतीं हैं उन्हें आर्थिक कष्ट नहीं होता

मांग में सिंदूर भरने के लाभ
– रक्तचाप नियंत्रित रहता है
– मन शांत रहता है
– स्वस्थ बेहतर होता है
– सिंदूर में मौजूद पारा त्वचा को बढ़ती उम्र को यानि झुर्रियों से बचाता है
– सिंदूर के कारण चेहरे पर झुर्रियां जल्दी नहीं पड़तीं
– तनाव, सिर दर्द, अनिद्रा की समस्या दूर होती है
– माथे पर सिंदुर लगाने से रक्तचाप नियंत्रित रहता है
– सिंदूर लगाने से त्वचा स्वस्थ और जवां दिखती है
– सिंदूर लगाने से बालों में जूं और लीखें नहीं लगतीं

मांग का सिंदूर और सावधानियां
– जितनी लंबी मांग हो उतना लंबा सिंदूर भरें
– मांग भरने में सिर्फ सिंदूर का ही प्रयोग करें
– अपने सिंदूर को किसी से शेयर न करें
– मांग में हमेशा अपना सिंदूर ही भरें
– मांग हमेशा सीधी रखें
– केसरिया सिंदूर जो हनुमान जी को अर्पित किया जाता है उसे ही शास्त्रों में मांग में भरने का विधान

 मांग के सिंदूर का वैज्ञानिक कारण
– मांग में जहां सिंदूर भरा जाता है वहां एक महत्वपूर्ण ग्रंथी होती है, जिसे ब्रह्मरंध्र कहते हैं
– ये बहुत ही संवेदनशील भी होती है और सिर के मध्य भाग तक होती है
– सिंदूर में उपस्थित पारा धातु ब्रह्मरंध्र के लिए औषधि का काम करता है
– गृहस्थ जीवन के कारण आए तनाव को दूर करने में मदद करता है

 मांग में सिंदूर से स्वास्थ्य लाभ
– मांग में सिंदूर लगाने से स्वास्थ अच्छा रहता है
– रक्तचाप नियंत्रित रहता है, कामोत्तेजना बढ़ती है
– सिंदूर लगाने से महिलाओं की पिट्यूटरी ग्रंथियां स्थिर रहती हैं

बिंदी लगाने के लाभ
– बिंदी लगाने से मन एकाग्र होता है
– मन शांत रहता है
– सिर दर्द से राहत मिलती है
– चेहरे, गर्दन, पीठ, ऊपरी शरीर की मांसपेशियों को आराम मिलता है
– अनिद्रा की समस्या दूर होती है
– माथे में जहां बिंदी लगाई जाती है, उस जगह की नसें और आंखों की नसों का गहरा संबंध होता है
– बिंदी लगाने से झुर्रियां कम दिखाई देती हैं
– बिंदी लगाने से चेहरे की मांसपेशियों में रक्त प्रवाह शुरू हो जाता है
– स्किन टाइट और पोषित होती है
– लाल और गोल बिंदी लगाना शुभ

चूड़ियों का महत्व
– चूड़ियां सुहागिन स्त्री की महत्वपूर्ण निशानी
– सुहागिनों को चूड़ियां पहनना अनिवार्य
– कांच, सोने, चांदी की पहन सकते हैं चूड़ियां
– सुहागिनें सोने की चूड़ियों के साथ कांच की चूड़ी जरूर पहनें
– सिर्फ अविवाहित महिलाएं ही अकेले सोने की चूड़ियां पहन सकती हैं
– सुहागिनें बिना चूड़ी के कभी न रहे
– रंग-बिरंगी चूड़ियां पहननी पड़ें, तो लाल चूड़ी जरूर पहनें
– बार-बार लगती हो नजर तो चूड़ियों के सेट में काली चूड़ी पहनें

पायल क्यों जरूरी ?
– पायल किसी भी कन्या या स्त्री के लिए सर्वाधिक महत्वपूर्ण आभूषण
– पायल के घुंघरुओं की आवाज से घर में सकारात्मक ऊर्जा बढ़ती है

 सोलह श्रृंगार के लाभ
– जो स्त्रियां सोलह श्रृंगार को धारण करती हैं उनके घर में धन-धान्य की कमी नहीं होती
– ऐसी स्त्रियों पर स्वयं महालक्ष्मी की कृपा बनी रहती है
– सोलह श्रृंगार करने वाली स्त्री के परिवार में सुख बढ़ता है
– वैवाहिक जीवन में प्रेम बढ़ता है
– पति-पत्नी और परिवार में खुशियां बढ़ती हैं
– कष्ट ज्यादा दिनों तक नहीं टिकता

इन बातों का रखें ध्यान
– महिलाएं की मांग में सिंदूर हमेशा होना चाहिए
– माथे पर हमेशा बिंदी होनी चाहिए, बिंदी लाल रंग की और गोल हो तो और बेहतर
– हाथों में हमेशा चूड़ियां होनी चाहिए
– पार्टी के लिए रंगी बिरंगी चूड़ियां पहननी पड़े तो एक लाल चूड़ी जरूर पहनें
– सुहागिनें सिर्फ सोने की चूड़ी या कड़े न पहनें, साथ में कांच की चूड़ी जरूरी
– पत्नी को पति का नाम नहीं लेना चाहिए, ऐसा करने पर पति की आयु कम होती है
– पुरुषों को अपनी पत्नी का दिल नहीं दुखाना चाहिए
– महिला कुल की लक्ष्मी का रूप मानी जाती है
– जिस घर की महिला दुखी रहती है उस घर में कष्ट बना रहता है और घर में बरकत नहीं होती
– जो बहु अपनी सास को और जो सास अपनी बहुत को दुखी रखती है उनके घर में सुख-समृद्धि नहीं रहती
– पुरुषों को घर की महिलाओं का और महिलाओं को पुरुषों का आदर करना चाहिए, ऐसा न होने गृह क्लेश बढ़ना तय

Comments: 0

Your email address will not be published. Required fields are marked with *