Dharma Remedy Articlesउपाय लेख

जानिए , नौ मुखी रुद्राक्ष के फायदे ?

122views

जानिए , नौ मुखी रुद्राक्ष के फायदे ?

नौ मुखी रुद्राक्ष को नौ देवियों का स्वरूप कहा जाता है, यह रुद्राक्ष महाशक्ति के नौ रूपों का प्रतीक है, अतः जो लोग नौमुखी रुद्राक्ष धारण करते हैं, वे सभी सुख-सुविधाएं प्राप्त करते हैं। इन लोगों को समाज में मान-सम्मान प्राप्त होता है, समाज में प्रतिष्ठा की चाह रखने वाले लोगों को नौ मुखी रुद्राक्ष पहनना चाहिए। नौ मुखी रुद्राक्ष का मंत्र है- ऊँ ह्रीं हुं नम:। इस मंत्र के साथ यह रुद्राक्ष धारण करना चाहिए। केतु ग्रह की प्रतिकूलता होने पर भी इसे धारण करना चाहिए। ज्वर, नेत्र, उदर, फोड़े, फुंसी आदि रोगों में इसे धारण करने से अनुकूल लाभ मिलता है। इसे धारण करने स केतु जनित दोष कम होते हैं। यह लहसुनिया से अधिक प्रभावकारी है। ऐश्वर्य, धन-धान्य, खुशहाली को प्रदान करता है। धर्म-कर्म, अध्यात्म में रुचि बढ़ाता है। मकर एवं कुंभ राशि वालों को इसे धारण करना चाहिए।नौ मुखी रुद्राक्ष को धारण करने से आंखों की दृष्टि तेज होती है। मां नवदुर्गा का स्‍वरूप होने के कारण यह रक्षा कवच का काम करता है और मनुष्‍य को मानसिक और भौतिक दुखों से बचाता है। 9 मुखी रुद्राक्ष को धारण करने से व्‍यक्‍ति की कीर्ति और मान-सम्‍मान में वृद्धि होती है। मन को शांति मिलती है।

धारण करने का लाभ 

  • इसको धारण करने से धन सम्पत्ति, मान सम्मान, यश, कीर्ति और सभी प्रकार के सुखों की वृद्धि होती है।
  • इस रुद्राक्ष को बाए हाथ में या कंठ में धारण करना चाहिए।
  • यह रुद्राक्ष आखों की दृष्टि के लिए भी उपयोगी माना गया है।
  • माँ भगवती की असीम अनुकम्पा नौ मुखी रुद्राक्ष पर होने से यह कवच का काम करता है और शरीर को मानसिक एवं भौतिक दुखों से बचाता है और धारक की कीर्ति सर्वत्र फैलाता है।
  • नौ मुखी रुद्राक्ष धारण करने से धीरे धीरे मन शांत हो जाता है और लोगों के कल्याण की कामना करने लगता है।
  • महाशिवपुराण के अनुसार देवी दुर्गा का स्वरुप होने के कारण से विशेष कर महिलाओं के लिए यह रुद्राक्ष अत्यंत उपयोगी है, इसके धारण से इच्छा शक्ति प्रबल होकर कई पापों का नाश होता है।
  • देवी माँ की कृपा इस रुद्राक्ष पर होने से सभी देवताओं की कृपा भी इस रुद्राक्ष के धारक को मिलती है अतः हर पुरुष व् महिला को जो किसी भी रूप में देवी का पूजन करता हो उसे नौ मुखी रुद्राक्ष अवश्य धारण करना चाहिए।
  • इसके धारण से मानसिक रोग व् ह्रदय रोग में भी लाभ हो सकता है।
  • इस रुद्राक्ष पर केतु का प्रभाव भी माना गया है, केतु ग्रह का नाम अचानक और अजीब सा फल देने के बारे में जाना जाता है इसलिए इस रुद्राक्ष के धारक को अचानक कई प्रकार के लाभ हो सकते हैं।