astrologerAstrology

Jyotish Shastra : ज्योतिष शास्त्र से जानें अपने प्रेम और भविष्य…

75views

Jyotish Shastra : ज्योतिष शास्त्र से जानें अपने प्रेम और भविष्य…

ज्योतिष में जातक की जन्मकुंडली काफी महत्वपूर्ण मानी जाती है, क्योंकि इसके माध्यम से व्यक्ति की प्रेम भविष्यवाणी कर सकते हैं। साथ ही कुंडली व्यक्ति के जन्म समय के आधार पर बनाई जाती है, जो जातक के भविष्य में होने वाली घटनाओं का अनुमान लगाने में मदद करती है। इसमें विभिन्न ग्रहों और नक्षत्रों की स्थिति का विवरण शामिल होता है।

इसके अलावा, कुंडली में शुक्र ग्रह और सप्तम भाव वह स्थान होते हैं, जो याददाश्त और संबंधों के लिए जिम्मेदार होते हैं। अगर आपकी कुंडली में ये दोनों स्थान उच्च हैं, तो आपकी याददाश्त मजबूत होती है और आपके संबंध भी स्थायी बने रहते हैं। कुंडली में दूसरे ग्रहों और नक्षत्रों की स्थिति से भी यह पता लगाया जा सकता है कि जिस व्यक्ति को आप पसंद करते है वह आपको याद कर रहा है या नहीं।

कुंडली से कैसे करें प्रेम साथी की भविष्यवाणी?

कुंडली एक ज्योतिषीय चार्ट है, जो व्यक्ति के जन्म के समय ग्रहों की स्थिति के आधार पर बनाई जाती है। कुंडली में प्रेम साथी की भविष्यवाणी के लिए ज्योतिष में कुछ विशेष योग और दृष्टियों को देखा जाता हैं।

प्रेम साथी की भविष्यवाणी के लिए ज्योतिष कुंडली में निम्नलिखित योगों और दृष्टियों को देखते हैं:

सप्तम भाव: कुंडली में सप्तम भाव प्रेम जीवन के लिए महत्वपूर्ण होता है। सप्तम भाव में ग्रहों की स्थिति से ज्योतिषी यह भी देखते हैं कि व्यक्ति का प्रेम जीवन कितना सुखद होगा या नहीं।

शुक्र और मंगल का संयोग: जब शुक्र और मंगल का संयोग होता है, तो व्यक्ति के प्रेम से संबंधित मुद्दे सामने आ सकते हैं। इससे यह भी पता लगाया जाता है कि क्या व्यक्ति अपने प्रेमी के साथ सुखी रहेगा या नहीं।

लग्न और सप्तम भाव के स्वामी का संयोग: लग्न और सप्तम भाव के स्वामी के संयोग से व्यक्ति अपने प्रेमी के साथ संबंधित मुद्दों से परेशान हो सकता है। यह संयोग व्यक्ति के वैवाहिक जीवन पर भी असर डाल सकता है।

भावाधिपति ग्रहों का संयोग: भावाधिपति ग्रहों का संयोग व्यक्ति के प्रेम से संबंधित मुद्दों पर असर डालता है। जैसे कि, आपकी कुंडली में सप्तम भाव में मंगल हो और उसके साथ संयोग में शुक्र हो, तो आपके वैवाहिक जीवन में प्रेम से संबंधित मुद्दों का समाधान हो सकता है।

शुक्र और चंद्रमा का संयोग: शुक्र और चंद्रमा का संयोग भी व्यक्ति के प्रेम से संबंधित मुद्दों पर असर डालता है। यदि आपकी कुंडली में शुक्र और चंद्रमा का संयोग होता है, तो आपका प्रेम संबंध खूबसूरत होगा और आपको अपने प्रेम साथी के साथ बहुत समय बिताने का मौका मिलेगा।

प्रेम भविष्यवाणी के लिए महत्वपूर्ण ग्रह

शुक्र ग्रह: शुक्र प्रेम का सिद्धांती ग्रह है और इसकी स्थिति कुंडली में प्रेम संबंध के लिए बहुत महत्वपूर्ण होती है। शुक्र जिस भाव में स्थित होता है, उस भाव से संबंधित प्रेम संबंधों को प्रभावित करता है। इसके साथ ही शुक्र और सूर्य का संयोग भी प्रेम संबंधों के लिए शुभ होता है।

मंगल ग्रह: मंगल एक शक्तिशाली ग्रह है, इसकी स्थिति कुंडली में प्रेम संबंध के लिए अहम होती है। जब मंगल शुभ स्थिति में होता है, तब प्रेम संबंध मजबूत होते हैं और जब मंगल अशुभ स्थिति में होता है, तब प्रेम संबंधों में आपसी विवाद होते हैं।

चंद्रमा ग्रह: चंद्रमा भावनात्मक और संवेदनशील ग्रह होता है, जो प्रेम संबंधों के लिए बहुत महत्वपूर्ण माना जाता है। चंद्रमा की स्थिति कुंडली में प्रेम संबंध के लिए अहम होती है। जब चंद्रमा शुभ स्थिति में होता है, तो प्रेम संबंध सुखद और आनंदमय होते हैं और जब चंद्रमा अशुभ स्थिति में होता है, तो प्रेम संबंधों में आपसी विवाद होते हैं और भावनात्मक रूप से व्यक्ति तनावमय हो जाता है।

राहु और केतु: राहु और केतु कुंडली में अशुभ ग्रह होते हैं और ये भी प्रेम संबंधों के लिए जोखिम बन सकते हैं। जब राहु या केतु की स्थिति अशुभ होती है, तब प्रेम संबंधों में आपसी विवाद होते हैं और भावनात्मक रूप से व्यक्ति तनावमय हो सकता है। इसलिए जब प्रेम भविष्यवाणी की जाती है, तो राहु और केतु के स्थान का ध्यान रखना बहुत महत्वपूर्ण होता हैं।

जरा इसे भी पढ़े 

अगरबत्ती जलाने से होते है ये फायदे ? जानिए…