Astrology

सुख साधन प्राप्ति के लिए,अपनाए ज्योतिष

162views

सुख साधन प्राप्ति के लिए,अपनाए ज्योतिष

जीवन के सुख साधन प्राप्ति हेतु व्यक्ति हर संभव प्रयास करता है। किंतु कभी अवसर की कमी तो कभी प्रयास में चूक या कोई अन्य कारण से इच्छित सफलता प्राप्ति में बाधा उत्पन्न होने से व्यक्ति कई बार असफलता प्राप्त होती है।

इस असफलता के कारण तनाव कई बार इतना ज्यादा हो जाता है कि उसे तनाव से बाहर आने के लिए व्यसन का सहारा लेना पड़ता है और यह व्यसन शौक या तनाव दूर करने से शुरू होते हुए व्यसन या लत की सीमा तक चला जाता है। इसक ज्योतिष कारण व्यक्ति के कुंडली से जाना जाता है।

ALSO READ  Jyotish Shastra : ज्योतिष शास्त्र से जानें अपने प्रेम और भविष्य...

किसी व्यक्ति का तृतीयेष अगर छठवे, आठवें या द्वादष स्थान पर होने से व्यक्ति कमजोर मानसिकता का होता है, जिसके कारण उसके प्रयास में कमी या असफलता से डिप्रेषन आने की संभावना बनती है। अगर यह डिपे्रषन ज्यादा हो जाये तथा उसके अष्टम या द्वादष भाव में सौम्य ग्रह राहु से पापाक्रांत हो तो उस ग्रह दषाओं के अंतरदषा या प्रत्यंतरदषा में शुरू हुई व्यसन की आदत लत बन जाती है।

लगातार व्यसन मनःस्थिति को और कमजोर करता है अतः यह व्यसन समाप्त होने की संभावना कम होती है। अतः व्यसन से बाहर आने के लिए मनोबल बढ़ाने के साथ राहु की शांति तथा मंगल का व्रत मंगल स्तोत्र का पाठ करना जीवन में व्यसन मुक्ति के साथ सफलता का कारक होता है।

ALSO READ  Coral Stone : मूंगा रत्न के चमत्कारी फायदे

ज़रा ऐसी भी पढ़े 

 कैरियर पर बाधा  ? तो जानें इसके ज्योतिष उपाय 

जानें,नाड़ी दोष के निवारण…

कर्ज मुक्ति का ज्योतिष उपाय

व्यापार में असफलता तो क्या करें ?

Aaj ka Rashifal 18 October 2022 : जानें आज के राशियों का हाल तथा ग्रहों की चाल…