Gems & StonesOther Articles

पन्ना रत्न किसे पहनना चाहिए,जानें इसके फ़ायदे

246views

पन्ना रत्न किसे पहनना चाहिए,जानें इसके फ़ायदे

रत्न शास्त्र अनुसार पन्ना रत्न का संबंध बुध ग्रह से माना जाता है। आइए जानते हैं धारण करने के लाभ और पहनने की सही विधि…
रत्न शास्त्र में प्रमुख 9 रत्नों का वर्णन मिलता है। ये रत्नों का संबंध किसी न किसी ग्रह से होता है। साथ ही रत्न उस ग्रह के शुभ प्रभाव को बढ़ाते हैं। आपको बता दें कि जन्मकुंडली में ग्रह जब कमजोर स्थिति में स्थित होता है तो रत्न पहनने की सलाह दी जाती है। वहीं कभी भी नीच (नकारात्मक) ग्रह का रत्न नहीं पहनना चाहिए। यहां हम आज बताने जा रहे हैं पन्ना रत्न के बारे में। जिसका संबंध बुध ग्रह से माना जाता है।

पन्ना रत्न क्यों धारण करना चाहिए

रत्न शास्त्र के अनुसार, पन्ना रत्न बुध ग्रह का प्रतिनिधित्व करता है. इसे धारण करने से व्यक्ति के जीवन में कई सफलता के मुकाम हासिल करने का योग बनता है।

किसे धारण करना चाहिए पन्ना?

  • ज्योतिष शास्त्र के अनुसार, जिसकी लग्न कन्या या मिथुन है, वह जातक पन्ना रत्न धारण कर सकता है, परंतु यह देखना आवश्यक होता है कि लग्न में कौन सा ग्रह है या लग्न के सामने सप्तम भाव में कौन सा ग्रह है.
  • ज्योतिष शास्त्र के अनुसार, यदि किसी जातक की कुंडली में बुद्ध की महादशा या अंतर्दशा चल रही हो, बुध ग्रह 8वें या 12वें भाव में नहीं हो, तो वह व्यक्ति पन्ना रत्न धारण कर सकता है.
  • ज्योतिष शास्त्र के अनुसार, यदि किसी जातक की कुंडली में बुध, मंगल, शनि, राहु या केतु के साथ स्थित हो या उस पर शत्रु ग्रहों की दृष्टि हो, तो पन्ना रत्न धारण किया जा सकता है. इससे नौकरी और व्यवसाय में आ रही समस्या दूर होगी.

किसे नहीं धारण करना चाहिए पन्ना?

  • ज्योतिष शास्त्र के अनुसार, पन्ना धारण करने के पहले ज्योतिषी से परामर्श लेना अत्यंत आवश्यक है.
  • ज्योतिष शास्त्र के अनुसार, जिस व्यक्ति की कुंडली में 6वें, 8वें और 12वें भाव का स्वामी बुध है, उसे पन्ना रत्न नुकसान पहुंचा सकता है.
  • जिस जातक की कुंडली में बुध की महादशा चल रही है, बुद्ध 8वें या 12वें भाव में बैठा है, तो उस व्यक्ति को पन्ना रत्न धारण करने से बचना चाहिए.

कारोबारियों को देता है तगड़ा लाभ 

बुध ग्रह व्‍यापार का कारक ग्रह है. कारोबारियों के लिए पन्‍ना पहनना उन पर बुध ग्रह की कृपा बरसाता है. वे सही निर्णय ले पाते हैं और खूब धन कमाते हैं. पन्‍ना पहनते ही कारोबार चमक जाता है और तगड़ा मुनाफा होने लगता है. हालांकि रत्‍न विशेषज्ञ की सलाह से ही धारण करना चाहिए.

छात्रों के लिए भी पन्‍ना पहनना बहुत लाभदायक साबित होता है. इससे उनकी एकाग्रता और बुद्धिमत्‍ता बढ़ती है. उनकी याददाश्‍त बेहतर होती है, जिससे वे परीक्षा-इंटरव्‍यू में सफलता पाते हैं.

पन्ना को कम से कम 6 से सवा 7 रत्ती का धारण करना चाहिए। साथ ही पन्ना चांदी या सोने के धातु में पहना जा सकता है। पन्ना हाथ की सबसे छोटी ऊंगली (कनिष्ठा) में धारण किया जाता है। इसे सूर्योदय बुधवार के दिन सुबह लगभग 10 बजे तक धारण किया जा सकता है।पन्ना धारण करने से पहले उसे एक रात के लिए गंगाजल, शहद, मिश्री व दूध के घोल में डुबोकर रख दें। जिससे उसका शुद्धिकरण हो जाए। उसके बाद इसे निकाल कर धूप दीप दिखाएं और ऊं बुं बुधाय नमः मंत्र का 108 बार जाप कर धारण कर लें और बुध ग्रह से जुड़ा दान किसी मंदिर के पुजारी को चरण स्पर्श करके देकर आएं। अगर इस विधि से पन्ना धारण करेंगे तो वह बहुत जल्दी शुभ फल देगा।