ग्रह विशेष

जानें, सातवें भाव में बुध का प्रभाव…

107views

जानें, सातवें भाव में बुध का प्रभाव…

सातवें घर का बुध वाला जातक अपना भला चाहे न करे, परन्तु सदा दूसरों की भलाई मे आगे रहेगा। राह चलते हुए भी वह किसी का कुछ-न-कुछ भला कर देगा।उसकी स्त्री वफादार, बहन जान न्योछावर करने वाली तथा साली रेत-मिट्टी की तरह साथ मिलकर रहने वाली होती है। संसार के कल्याण हेतु वह पारस पत्थर साबित होता है।

वह अपना कुल-परिवार तारने वाला हीरा होता है। अक्ल का तेज तथा कलम का धनी होता है। उसकी कलम से लिखा शब्द तलवार को भी काटने में सक्षम होता है। हाजिर माल के व्यापार से उसे सदा लाभ होता है। वह फौजदारी, मुकदमे एवं तकरार में कभी नहीं फंसता। उसका बुढ़ापा बड़े आराम से बीतता है। समुद्री सफर विशेष रूप् से फलदायी होता है।

जातक पर ग्रहों का प्रभाव कभी मंदा नहीं होता। वे आपस में चाहे बुध से लड़ते रहें, परंतु बुध के इशारे पर उत्तम फल देते हैं।मंदी के हालात में साहूकारी का फल उत्तम नही होगा। स्त्री एवं बहन बरबाद होती है तथा दुखिया जीवन जीती हैं। रूखा गृहस्थ हर तरह से सुनसान-श्मशान बन जाता है। कारोबार तथा खेती चैपट होने लगती है। यह बृहस्पति के नौवें खाने में आने से होता है।