Gems & Stones

माणिक्य रत्न के गुण और दोष

31views

माणिक्य रत्न के गुण और दोष

माणिक्य के दोष – माणिक्य में अक्सर नीचे दोष पाये जाते हैं क्योंकि निर्दोप माणिक्य बहुत कम ही पाए जाते हैं।

1.दुरंगा – जिस माणिक्य में दो से अधिक रंग दिखाई दें,वह पहनने से जीवन में अनेक परेशानियां आती है।
2. जाल युक्त – जिस माणिक्य में आड़ी तिरछी रेखाएं हों,अथवा जिसमें मकड़ी के जाल की तरह रेखाएं दिखाई दें,वह माणिक्य गृहस्थ सुख का नाश करने वाला माना जाता है।
3. दूधक – जिस माणिक्य का रंग दूध के समान हो या जिसमें दूध के रंग के छींटे हो,ऐसा स्टोन विपत्ति लाने वाला तथा अशुभ साबित होता है।
4. धुम्र – धुऐं के रंग जैसा माणिक्य अशुभ एवं हानिकारक होता है।
5.सुन्न – जिस माणिक्य में चमक न हो उसे सुन्न माणिक्य कहते हैं। ऐसे माणिक्य से किसी भी प्रकार की किरणें निकलती दिखाई नहीं देती है।
6. हल्का- अपने अपेक्षित घनत्व से यदि माणिक्य कम हो तो ऐसा दोषयुक्त से किसी भी प्रकार की किरणें निकलती दिखाई नहीं देती ।
7. त्रिशूल – जिस माणिक्य में त्रिभुज,त्रिशूल अथवा तीन लाइनों का चिन्ह हों, यह सन्तान का नाश करने वाला होता है।
8. गड्ढा – जो माणिक्य टूटा हुआ हो अथवा जिसमें गड्ढा हो वह रोग देने वाला होता है।
9. परत- जिस माणिक्य में अभ्रक की परतें दिखाई दें,वह अशुभ होता है।
10. चीरे वाला- जिस माणिक्य में क्रास का चिन्ह हो या जिस पर चीरा लगा हुआ हो, उसके पहनने पर व्यक्ति की अचानक मृत्यु हो सकती है।

ALSO READ  जानें,मूंगा रत्न किसे पहनना चाहिए...