उपाय लेख

जानें पारिजात पौधा लगाने के फायदे,ये रहा 10 लाभ…

339views

                                                 जानें पारिजात पौधा लगाने के फायदे,ये रहा 10 लाभ…

पारिजात को हरसिंगार भी कहते हैं। आपने पारिजात के फूल का प्रयोग जरूर किया होगा,लेकिन शायद परिजात के गुण के बारे में नहीं जानते होंगे।पारिजात का पेड़ बाग-बगीचों में पाया जाता है। इसके फूल बहुत ही मनमोहक और आकर्षक होते हैं। आमतौर पर लोग हरसिंगार के फूल को केवल पूजा-पाठ के लिए इस्तेमाल करते हैं। लोगों को यह जानकारी ही नहीं है कि पारिजात या हरसिंगार के फायदे एक-दो नहीं बल्कि बहुत सारे हैं।

ALSO READ  जानिए, कालसर्पयोग निवृत्ति के उपाय

पौधा लगाने के फायदे 

  1. पारिजात का वृक्ष जिसके भी घर के आसपास होता है उसके घर के सभी तरह के वास्तुदोष दूर हो जाते हैं।
  2. पारिजात के फूलों को खासतौर पर लक्ष्मी पूजन के लिए इस्तेमाल किया जाता है लेकिन केवल उन्हीं फूलों को इस्तेमाल किया जाता है, जो अपने आप पेड़ से टूटकर नीचे गिर जाते हैं। जहां यह वृक्ष होता है वहां पर साक्षात लक्ष्मी का वास होता है।
  3. पारिजात के फूलों की सुगंध आपके जीवन से तनाव हटाकर खुशियां ही खुशियां भर सकने की ताकत रखते हैं। इसकी सुगंध आपके मस्तिष्क को शांत कर देती है। घर परिवार में खु‍शी का माहौल बना रहता है और व्यक्ति लंबी आयु प्राप्त करता है।
  4. पारिजात के ये अद्भुत फूल सिर्फ रात में ही खिलते हैं और सुबह होते-होते वे सब मुरझा जाते हैं। यह फूल जिसके भी घर-आंगन में खिलते हैं, वहां हमेशा शांति और समृद्धि का निवास होता है।
  5. वास्‍तु शास्‍त्र में माना गया है क‍ि पार‍िजात का पौधा जहां होता है, वहां नकारात्‍क शक्‍त‍ियों का वास नहीं होता।
ALSO READ  दरिद्रता दूर करने के उपाय

पारिजात के पौधा का महत्व

सबसे पहले तो आपको ये बता दें कि पारिजात का पौधा दिखने में बेहद ही खूबसूरत होता है। पारिजात के फूल को भगवान हरि के श्रृंगार और पूजन में प्रयोग किया जाता है,यही कारण है कि इसके फूल को को हरसिंगार के नाम से भी जाना जाता है।हिन्दू धर्म में इस वृक्ष का बहुत महत्व माना जाता है। यही नहीं शास्त्रों में तो पारिजात को कल्पवृक्ष भी कहा गया है। कहा जाता है कि स्वर्गलोक में इसको स्पर्श करने का अधिकार सिर्फ उर्वशी नाम की अप्सरा को था। पारिजात को छूने मात्र से ही व्यक्ति की थकान मिट जाती है। पारिजात का वृक्ष ऊंचाई में दस से पच्चीस फीट तक का होता है। इसके इस वृक्ष की एक खास बात ये भी है कि इसमें बहुत बड़ी मात्रा में फूल लगते हैं।