उपाय लेख

Kale Til Ke Upay : परेशानी दूर करने के लिए अपनाए काले तिल का ये उपाय…

71views

परेशानी दूर करने के लिए अपनाए काले तिल का ये उपाय…

Kale Til Ke Upay: हिंदू धर्म में लगभग सभी धार्मिक कार्यों में काले तिल का प्रयोग किया जाता है। पूजा पाठ में भी इसका विशेष महत्व होता है। इसके अलावा ज्योतिष में भी काले तिल से जुड़े कुछ उपाय बताए गए हैं, जिनको करने से जीवन में आ रही कई प्रकार की परेशानियों से मुक्ति मिलती है। जीवन में चाहे कितनी भी बड़ी समस्या क्यों न हो, ज्योतिष में सभी के उपाय जरूर बताए गए हैं। आर्थिक, शारीरिक, दुर्भाग्य सहित कई तरह की परेशानियों को मात्र कुछ उपाय से दूर किया जा सकता है। ठीक इसी प्रकार काले तिलों के उपाय से किसी भी व्यक्ति किस्मत चमक सकती है और परेशनियां दूर हो सकती हैं।
पूजा में इस्तेमाल होने वाले काले तिल आपकी जीवन की परेशानियों दूर कर सकते हैं। आज हम आपको काले तिल से जुड़े कुछ उपाय बताने जो रहे हैं, जिनसे आपके जीवन की सभी प्रकार की बाधाएं दूर हो जाएंगी। आइए जानते हैं । यदि आपकी कुंडली में शनि के दोष है, तो किसी पवित्र नदी में हर शनिवार काले तिल प्रवाहित करना चाहिए। मान्यता है कि इस उपाय से शनि के दोष से मुक्ति मिलती है।ज्योतिष के अनुसार हर रोज एक लोटे में शुद्ध जल भरें और उसमें काले तिल डाल दें और इस जल को शिवलिंग पर ‘ऊँ नम: शिवाय’ मंत्र जप करते हुए चढ़ाएं। रोजाना ऐसा करने से आर्थिक स्थिति ठीक होती है।
अगर नौकरी में कोई बाधा आ रही है तो वह भी दूर होती है। यदि आपके घर में कलह का वातावरण रहता है, तो दूध में तिल मिलाकर पीपल के पेड़ पर अर्पित करें, जल को चढ़ाते समय ॐ भगवते वासुदेवाय नमः मंत्र का जाप करें। ऐसा करने से घर में शांति का माहौल बनेगा और आपसी संबंध मधुर होंगे।अक्सर छोटे बच्चों को नजर लग जाती है जिसके कारण वे रोना शुरु कर देते हैं। ऐसे में उनकी नजर उतारने के लिए एक नींबू को बीच से काटकर उसके एक भाग पर तिल लगाकर काले धागे से बांध दें।
फिर उल्टी तरफ से नींबू करके सात बार ऊपर से उतारकर नींबू को कहीं दूर स्थान पर फेंक दें। मान्यता है कि इससे नजर दोष दूर होगा और बच्चा जल्द ही स्वस्थ हो जाएगा।ज्योतिष के अनुसार, किसी जरुरी काम से बाहर जाते समय मुठ्ठी भर तिल लेकर बाहर जाएं उसे किसी काले कुत्ते के सामने डाल दें।
अगर कुत्ता तिल तो खा लेता है, तो काम में सफलता अवश्य प्राप्त होती है। यदि काला कुत्ता न मिले तो तिल को जल में प्रवाहित कर दें, लेकिन घर पर वापस न लाएं।