Astrologyउपाय लेख

मंगल और केतु ग्रह का असर वाणी दोष!! क्या उपाय करें

364views

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार अगर किसी जातक के उपर मंगल और केतु ग्रह का असर हो जाये तो उसकी वाणी में दोष पैदा हो जाता है, और ऐसा व्यक्ति बहुत झूठ बोलने लगता है और बेवजह दूसरों को लड़ाने का शौकिन होता है, उसकी वाणी से घमंड झलकता है, उसके जीवन में उतार – चढ़ाव सदैव बना रहता है, गृहस्थ सुख नहीं मिल पाता, ऐसे लोगों को जीवन में एक बार गंभीर दुर्घटना का शिकार होना पड़ता है, अच्छी संतान और भाई बहनों का सुख नहीं मिल पाता, समय के साथ अगर ऐसे लोग व्यवहार में परिवर्तन नहीं करते तो इनकी आवाज ऊँची और कर्कश हो जाती है, अपने आप को बचाने के लिए हमेशा यह बोलते है की मैं तो साफ़ साफ़ बात करता या करती हूँ । लेकिन शायद ये लोग यह नहीं जानते की साफ़ और सही सही बात करने में काफी अंतर होता हैं ।

ALSO READ  श्री महाकाल धाम में महाशिवरात्रि के दुर्लभ महायोग में होगा महारुद्राभिषेक

मंगल और केतु के उपाय

  • किसी प्राचीन शिवालय में सोमवार के दिन सुबह सबह रुद्राभिषेक करें ।
  • निंदा करने और झूठ बोलने से बचना चाहिए ।
  • गले में चाँदी कि ठोस गोली सफेद धागे या चाँदी कि चेन में पहनना चाहिए ।
  • हनुमानजी के मंदिर में सफाई सेवा के साथ 7 बार हनुमान चालिसा या एक बार सुंदरकाण्ड का पाठ करें ।
  • अपने सदगुरु और गाय माता की सेवा करें या मन ही मन करने से ग्रह मंगल के दुष्प्रभावों को कम करता है ।
  • गरिष्ठ भोजन से बचे, बहुत मसालेदार और मांसाहार से बचें ।

अगर किसी की वाणी में बुध ग्रह का हो जाये तो जातक के गले, मस्तिष्क एवं वाणी के रोग उत्पन्न होते है, ऐसे में व्यक्ति हकलता है, तुत्लाता है, बुध ऐसी स्तिथि कर देता है कि आप कुछ बोलना भी चाहे तो आपके दिमाग में वह शब्द नही आएंगे ही नहीं, व्यक्ति अभद्र भाषा का प्रयोग भी बुध ग्रह के ही कारण करता है, जल्दबाजी में झूठ और निंदा कर बैठते है, उनकाउच्चारण इतना खराब हो जाता है कि दूसरों को उनकी बात समझने में परेशानी होती है, वाणी दोष कि वजह से परिवार में अशांति रहती है ।

ALSO READ  6 अप्रैल 2024 को देशभर के विख्यात ज्योतिषियों, वास्तु शास्त्रियों, आचार्य, महामंडलेश्वर की उपस्थिति में होगा भव्य आयोजन

बुध के उपाय

  • बुध के दुष्प्रभाव से बचने के लिए ताजा मट्ठा पिये ।
  • हरा धनिया पीसकर इसके रस को छान ले, उस रस में खाने वाली फिटकरी मिला लें इस रस से कुल्ला करें, ध्यान रखे इस रस को ना तो गिलना है और ना ही पीना, सिर्फ़ गरारे करना है ।
  • शांत मन से शब्दों को धीरे धीरे बोलने कि कोशिश करते रहे ।
  • अनुलोम – विलोम प्राणायाम नियमित करे ।
  • अगर बुध के कारण बच्चे को बोलने में कठिनाई हो रही हो तो रोज 51 बार बच्चे से ऊँ का उच्चारण करायें ।
  • पीसा हुआ जीरा और चीनी चूसे ।
ALSO READ  6 अप्रैल 2024 को देशभर के विख्यात ज्योतिषियों, वास्तु शास्त्रियों, आचार्य, महामंडलेश्वर की उपस्थिति में होगा भव्य आयोजन

अगर किसी का सूर्य खराब हो तो वाणी पर असर पड़ता है, ऐसा व्यक्ति असामान्य व्यवहार करने लगता है, अपनी वाणी से ख़ुद की ही नुकसान कर लेते है, किसी के बारे में कुछ भी कह देते है, इनके मित्र और रिश्ते भी स्थायि नही होते, आवाज़ का सुरिलापन समाप्त हो जाता है, गले में दर्द और कफ बना रहता है ।

सूर्य के उपाय

  • ऐसे जातकत ब्रह्ममुहूर्त में पीपल के पेड़ के निचे बैठकर ध्यान करें ।
  • रुद्रसूक्त का नियमित पाठ करें ।
  • मुलेठी, अमला और मिश्री का चुर्ण बनाकर सुबह शाम सेवन करें ।
  • सूर्य को नियमित अर्घ्य देवें