Gems & StonesOther Articlesउपाय लेख

जब बुध पंचम भाव में हो

148views

बुध पंचम भाव में

1.मेष लग्न – बुध तृतीयेश-षष्ठेश होकर पंचम भाव में स्थित होगा।पन्ना धारण करने से बुद्धि तीव्र होगी।रोमान्स के लिए अच्छा रहे,परन्तु सन्तान के रूप में लड़कियां ही प्राप्त होगीं।

2.वृष लग्न – बुध द्वितीयेश-पंचमेश होकर पंचम भाव में स्थित होगा। पन्ना धारण करने से बुद्धि तीव्र होगी,रोमान्स के लिए तो अच्छा रहेगा। सन्तान के रूप में लड़कियां ही होंगी,अतः सोच समझकर निर्णय लेवें।

3.मिथुन लग्न – बुध लग्नेश चतुर्थेश होकर पंचम भाव में तुला राशि में स्थित होगा। पन्ना धारण करना लाभदायक है। सेहत अच्छी होगी तथा मकान जायदाद,वाहन सुख मिलेगा।

ALSO READ  श्री महाकाल धाम में महाशिवरात्रि के दुर्लभ महायोग में होगा महारुद्राभिषेक

4.कर्क लग्न- बुध द्वादशेश-तृतीयेश होकर पंचम भाव में वृश्चिक राशि में स्थित होगा,पन्ना धारण करने से शुभ-अशुभ मिश्रित फल प्राप्त होंगे।

5.सिंह लग्न – बुध लाभेश-द्वितीयेश होकर पंचम स्थान में धनु राशि में स्थित होगा। पन्ना धारण करना धन लाभ में वृद्धि करता है। अतः अवश्य धारण करें।

6.कन्या लग्न – बुध दशमेश-लग्नेश होकर पंचम भाव में मकर राशि में स्थित होगा। पन्ना धारण करने से स्वास्थ्य और कारोबार दोनों ही बेहतर होंगे।

7.तुला लग्न – बुध भाग्येश-द्वादशेश होकर पंचम भाव में कुम्भ राशि में स्थित होगा। पन्ना धारण करने से भाग्य में वृद्धि होगी।

ALSO READ  श्री महाकाल धाम में महाशिवरात्रि के दुर्लभ महायोग में होगा महारुद्राभिषेक

8.वृश्चिक लग्न – अष्टमेश-लाभेश होकर पंचम भाव में कुम्भ राशि में स्थित होगा।पन्ना धारण करने से हानि हो सकती है।

9.धनु लग्न – सप्तमेश-लाभेश होकर पंचम भाव में मेष राशि में स्थित होगा। पन्ना धारण करने से रोमान्स सम्बन्धी लाभ मिलेगा,कारोबार में भी वृद्धि होगी।

10.मकर लग्न- बुध षष्ठेश-भाग्येश होकर पंचम भाव में वृष में स्थित होगा। पन्ना धारण करना भाग्येदय में सहायक हो सकता है।

11.कुम्भ लग्न – बुध पंचमेश-अष्टमेश होकर पंचम भाव में मिथुन राशि में,अपनी राशि में स्थित होगा। पन्ना धारण करना लाभकारी रहेगा।

12.मीन लग्न – बुध चतुर्थेश-सप्तमेश होकर पंचम भाव में कर्क राशि में स्थित होगा। पन्ना धारण करने से धन लाभ,घरेलू सुख,सन्तान सुख मिलेगा।

ALSO READ  श्री महाकाल धाम में महाशिवरात्रि के दुर्लभ महायोग में होगा महारुद्राभिषेक

जरा इसे भी पढ़े

जब बुध चतुर्थ भाव में हो