astrologer

लाख कोशिशों के बाद शादी मे आ रही अड़चन तो,करें येज्योतिष उपाय…

94views

लाख कोशिशों के बाद शादी मे आ रही अड़चन तो,करें येज्योतिष उपाय…

सही समय पर शादी का सपना पूरा हो जाना भी सौभाग्य माना जाता है. फिर चाहे वह आप देख रहे हों या फिर कोई मां या पिता अपने बच्चों के लिए. आपके इसी सपने से जुड़ी अड़चनों को दूर करने वाले सरल ज्योतिष उपाय को जानने के लिए जरूर पढ़ें ये लेख.हर मां-बाप का सपना होता है कि उनकी संतान की शादी समय से हो जाए, लेकिन यह सौभाग्य सभी के साथ नहीं होता है. कुछ लोगों विवाह में चाहे-अनचाहे अड़चने आती हैं या फिर शादी तय होकर भी टूट जाती है. यदि आपकी या फिर आपके घर के किसी सदस्य की यही पीड़ा है और उम्र बीत जाने के बाद भी अभी तक उसका विवाह नहीं हो पाया है तो विवाह में आ रही सभी बाधाओं को दूर करने और शीघ्र विवाह के योग बनाने वाले इन सरल और प्रभावी उपायों को एक बार अवश्य करना चाहिए. इन ज्योतिष उपायों को करने पर चमत्कारिक रूप से ही चट मंगनी और पट शादी होती है।

ALSO READ  सच्चा प्यार पाने का ये रहा ज्योतिष उपाय

यदि आपकी बेटी के विवाह में विलंब हो रहा है तो आप शक्ति की साधना करके इस समस्या से निजात पा सकते हैं. इसके लिए आप तुलसीदास जी द्वारा रचित पार्वती मंगल का प्रतिदिन पाठ करना चाहिए और नीचे दिये गये मंत्र का जप करना चाहिए. हे गौरि शंकरार्धांगि यथा त्वं शंकरप्रिया। तथा मां कुरु कल्याणि कान्तकान्तां सुदुर्लभाम्।।शीघ्र विवाह के लिए माता पार्वती की पूजा-उपासना भी अत्यंत फलदायी होती है।

सुयोग्य वर पाने के लिए नीचे दिये गये मंत्र का प्रतिदिन 108 बार जाप करें. कात्यायनि महामाये महायोगिनयधीश्वरि। नंदगोपसुतं देवि! पतिं में कुरु ते नम:।।यदि कोई युवक शीघ्र विवाह के लिए देवी की साधना करना चाहता है तो उसे नीचे दिये गये मंत्र को पूरी श्रद्धा और विश्वास के साथ जपना चाहिए. पत्नी मनोरंमां देहि मनोवृत्तानुसारिणीम्। तारिणीं दुर्गसंसारसागरस्य कुलोद्धवाम्।।

ALSO READ  जानिए,कब लगाना चाहिए शमी का पौधा ?

अविवाहित युवकों को मनचाही पत्नी पाने के लिए शिव चालीसा का पाठ करना चाहिए.विवाह योग्य युवक-युवतियों को प्रत्येक गुरुवार को स्नान करने वाले जल में एक चुटकी हल्दी डालकर नहाना चाहिए साथ ही खाने में केसर का प्रयोग करने से भी शीघ्र विवाह होने के योग बनते हैं.यदि किसी युवक या युवती के विवाह में बाधा आ रही है तो उसे शीघ्र विवाह के लिए प्रत्येक गुरुवार और पूर्णिमा के दिन बरगद के पेड़ की कम से कम 108 परिक्रमा जरूर करनी चाहिए. इसके साथ यदि संभव हो तो बरगद, पीपल और केले के पेड़ को जल देकर उनका आशीर्वाद जरूर लेना चाहिए।