उपाय लेख

 भूत-प्रेत से ग्रसित व्यक्तियों की पहचान करने का ये रहा तरीका

103views

 

 भूत-प्रेतादि ग्रसित व्यक्तियों की पहचान

1. भूत-प्रेत आदि से ग्रसित व्यक्ति को पहले पवित्रता से घृणा होती है। वह पवित्र वातावरण में रहने से घबड़ाता है। स्नान करने से ड़रता है, धूप में प्रकाश में बैठने से घबड़ता है। धुले हुए वस्त्र नहीं पहनता। मंदिर में नहीं जाता । धूप-दीप नहीं जलाता और भगवान के दर्शन नही करता है।

2. उसके व्यवहार व वाणी में अपवित्रता आ जाती है।

3. उसकी आँखों के नीचे काली झुर्रियां बन जाती है और उनकी आँखें डरावनी लगती है।

4. ऐसे व्यक्ति को नेत्र में नेत्र मिलाने को कहें तो नेत्र मिलाते ही वह पलकें झुका लेगा।

ALSO READ  करें,बेसुमान दौलत हासिल करने वाला ’’हरिद्रा तंत्र’’ टोटका

5. यदि प्रेत पीड़ित व्यक्ति के शरीर में हिंसक आत्मा है तो उसकी आँखों के डोलों आँखों की ढेली में से चिनगारी सी निकलती हुई प्रतीत होगी तथा साधारण व्यक्ति उससे नेत्र नहीं मिला पाएगा।

6. प्रेतबाधा, विशेषकर डाकिनी-शाकिनी, भूतनी व पिशाचनी से ग्रसित महिला की आँखों में देखने वाले को अपने शरीर का प्रतिबिम्ब उल्टा दिखाई देगा।

7. भूत-प्रेतादि दोष से ग्रसित व्यक्ति के नाखूनों का रंग बदल जाएगा। वह व्यक्ति नाखून बढ़ाएगा तथा उसके नाखून हिंसक जानवर की तरह नुकीले होंगे।

8. यदि प्रेतबाधा व्यक्ति कोई महिला है तो उसकी माहवारी में काले रंग का खून गिरना शुरू होगा।

ALSO READ  कालसर्प योग की शान्ति

9. ऐसे व्यक्ति के गुप्तांगों में विकृति आनी शुरू होगी।

10. व्यक्ति को स्वप्नदोष होगा। स्वप्न में किसी से संभोग करेगा। उसका वीर्य स्खलित होता तो कपड़ो में दाग नही पडे़गा।

11. जतक का आत्म-विश्वास टूटेगा एवं मानसिक रूप् से वह चिड़चिड़ा हो जाएगा। बात-बात पर काटने को दौडे़गा। लड़ाई-मारपीट की भाषा ज्यादा बोलेगा एवं ऐसा ही आचरण करेगा।

12. ऐसा व्यक्ति भोग-विलास के समय अपने जीवन साथी से घृणा करेगा। यदि स्त्री है तो अपने पति से झगड़ा करेगी। पति के प्रत्येक कार्य में असहयोग करेगी। पति को काटने-मारने दौड़ेगी। उसको विचित्र दृष्टि से देखेगी।

ALSO READ  जानें,रात में नींद क्यों नहीं आती ? ये रहा वजह

13. मध्य रात्रि को बुरे स्वप्न आए, स्वप्न में काले कपड़े वाला पुरूष या स्त्री दिखे तो यह पिशाच बाधा का प्रारम्भिक लक्षण हैं।

14. गर्भवती स्त्री का किसी डर या भय से गर्भपात हो जाए, जच्चे-बच्चे की अप्राकृतिक मृत्यु भी पिशाच बाधा का प्रत्यक्ष प्रणाम है।

15. सुनसान जगह में व्यक्ति अथवा दोपहर को यदि कहीं लघु शंका करता हैं अथवा शौचादि से निवृत्त होता है और उसके बाद घर पहुॅचते-पहुचते वह अस्वस्थ हो जाता है तो निश्चित ही वह व्यक्ति प्रेतदोष से बाधित हो चुका है। ऐसा मानना चाहिए।