Astrologyउपाय लेख

प्रेम विवाह में आ रही है रुकावट ? तो अपनाए ये ज्योतिष उपाय…

217views

प्रेम विवाह में आ रही है रुकावट ? तो अपनाए ये ज्योतिष उपाय…

Jyotish Upay For Love Marriage : आज के समय में ज्यादातर लोग प्रेम विवाह करना चाहते हैं, लेकिन कई बार ऐसा होता है कि लड़का और लड़की दोनों एक दूसरे से बेहद प्यार करते हैं, दोनों के बीच सबकुछ अच्छा चल रहा होता है, यहां तक कि दोनों के परिवार वाले भी राजी होते हैं, फिर भी शादी तक बात नहीं पहुंच पाती है। बार-बार शादी के बीच कोई न कोई समस्या आ ही जाती है। यदि आप भी प्रेम विवाह करना चाहते हैं लेकिन शादी की बात नहीं बन पा रही है तो आप ज्योतिष की मदद ले सकते हैं। ज्योतिष में ऐसे कई उपाय सुझाए गए हैं, जो आपके प्रेम विवाह में आ रही बाधा को दूर करने में आपकी मदद कर सकते हैं। दरअसल कहा जाता है कि कई बार ग्रह कमजोर होते हैं या नीच स्थिति में होते हैं तो उस दशा में प्रेम विवाह का योग नहीं बन पाता है। ऐसे में आप ग्रहों से जुड़े कुछ ज्योतिष उपाय कर सकते हैं। इन उपायों से प्रेम विवाह के योग बनेंगे।
रुकावट को दूर करने के लिए उपाय 
यदि आपके प्रेम विवाह में रुकावटें आ रही हैं तो उसे दूर करने के लिए आप शुक्ल पक्ष में पड़ने वाले गुरुवार को विष्णु भगवान और लक्ष्मी माता की पूजा करें।  साथ ही उनकी तस्वीर के सामने स्फटिक की माला से ’ॐ लक्ष्मी नारायण नमः’ मंत्र का जाप करें। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार इस उपाय को तीन माह तक करने से प्रेम विवाह की रुकावटें दूर होने लगती हैं।
ज्योतिष शास्त्र के अनुसार रत्न धारण करें 
ज्योतिष शास्त्र में रत्नों को बेहद चमत्कारी माना गया है। ऐसे में यदि आप प्रेम विवाह करना चाहते हैं, लेकिन कोई न कोई समस्या आ रही है तो किसी ज्योतिष विशेषज्ञ की सलाह लेकर हीरा या ओपल रत्न धारण करें।
प्रेम विवाह करने के लिए गुरुवार को किसी भी मंदिर में जाकर प्रसाद चढ़ाएं
प्रेम विवाह के लिए तीन माह तक लगातार हार गुरुवार को किसी भी मंदिर में जाकर प्रसाद चढ़ाएं। इसके बाद उस भोग को लोगों में भी बांटें। मान्यता है कि इससे जल्द ही प्रेम विवाह के योग बनेंगे।
चंद्रमा को करें मजबूत 
ज्योतिष जानकारों के अनुसार प्रेम विवाह के लिए चंद्रमा का प्रबल होना जरूरी होता है। ऐसे में हर सोमवार और पूर्णिमा की रात चंद्रमा की पूजा करें। फिर चंद्रमा के बीज मंत्र ॐ श्रां श्रीं श्रौं स: चन्द्रमसे नम: का जाप करें।

जरा इसे भी पढ़े

बेल पत्र तोड़ने के नियम और महत्व 

ALSO READ  श्री महाकाल धाम में महाशिवरात्रि के दुर्लभ महायोग में होगा महारुद्राभिषेक