Other Articles

बुरी आत्मा भगाने का ये रहा शानदार उपाय

15views

बुरी आत्मा भगाने का ये रहा शानदार उपाय

Vastu Purush: हिंदू धर्म में 56 करोड़ देवी-देवताओं की परिकल्पना व उनका अस्तित्व माना जाता है। इनमें प्रमुख ब्रह्मा, विष्णु, महेश व त्रिशक्ति लक्ष्मी, सरस्वती व पार्वती हैं। गृह निर्माण के पश्चात वास्तु-पुरुष की पूजा करते हुए यही कामना की जाती है कि इस आवास में त्रिशक्तियों का वास रहे और वे हमें सुख-समृद्धि का आशीर्वाद प्रदान करें। वास्तु-पुरुष मंडल भी अंतरिक्ष में उपलब्ध विभिन्न ऊर्जाओं का प्रतीक है, ऊर्जा का उचित ढंग से गृह में प्रवेश हो यही इसका अभिप्राय है।

पंच भूत यथा वायु, अग्नि, भूमि, जल व आकाश तत्व का उचित समायोजन घर में हो।जीवन शक्ति प्रदाता सूर्य व इसका प्रभाव।पृथ्वी की आकर्षण शक्ति व चुम्बकीय लहरों का प्रभाव।वास्तु-पुरुष मंडल का उचित प्रयोग।गृह निर्माण की प्रक्रिया शुरू होने से लेकर निर्माण संपूर्ण होने के बाद गृह प्रवेश के दौरान शास्त्रों में चार बार पूजा की व्यवस्था है।प्रथम पूजा निर्माण आरम्भ करने पर की जाती है, जिसे शिलान्यास कहा जाता है। इसमें नंदादि पांच शिलाओं का पूजन होता है। दूसरी पूजा देहरी न्यास कहलाती है। द्वार हेतु देहरी रखी जाती है, तब यह पूजा होती है। तीसरी पूजा आवास संपूर्ण होने पर वास्तु मंडल की पूजा की जाती है।इसमें मंत्रोच्चार व बलि विधान द्वारा बुरी आत्माओं को घर से दूर किया जाता है और लाभ प्रदान कराने वाली शक्तियों का आह्वान कर उनकी स्थापना की जाती है।

ALSO READ  जब गुरू चौथे भाव में हो

चतुर्थ पूजा के माध्यम से गृह में प्रवेश किया जाता है। प्राय: तीसरी और चौथी पूजा एक साथ ही संपन्न की जाती है। गृह प्रवेश से पूर्व प्रथम रात्रि को व दूसरे दिन गृह प्रवेश के समय ये पूजाएं की जाती हैं।वास्तु-पुरुष मंडल के माध्यम से प्रतीकात्मक वास्तु-पुरुष की पूजा की जाती है। पुरोहित या वास्तु पूजा विशेषज्ञ से ही यह पूजा संपन्न कराई जाती है। इसमें मुख्यत: 81 पदों वाले वास्तु-पुरुष मंडल की रचना चौकी पर की जाती है।

कुंकुम से 10-10 सीधी व आड़ी रेखाओं से 81 पद वास्तु मंडल तैयार किया जाता है। फिर इन 81 कोष्ठकों में देवताओं के अनुसार रंगीन अक्षत भर कर देवताओं की स्थापना की जाती है। बाह्य कोष्ठक में 32 देवता होते हैं, जो क्रमश: अग्नि आदि हैं। मध्य के 9 स्थान ब्रह्मा हेतु सुरक्षित हैं। इसके अलावा 13 देवता भीतर की तरफ होते हैं।वास्तु मंडल की स्थापना कर वास्तु मंत्रों का उच्चारण करते हुए अक्षत, दूर्वा, दही, पुष्प व अन्य पूजन सामग्री से षोडशोपचार पूजन करते हैं और वास्तु पुरुष से इस प्रकार प्रार्थना की जाती है- ‘हे भूमिरू पी शैय्या पर शयन करने वाले वास्तु-पुरुष आपको मेरा शत-शत नमन।

ALSO READ  बुरे वक्त को बदलते के लिए करें ये काम

प्रभु आप मेरे आवास में धन-धान्य, विद्या व स्वास्थ्य की निरंतर वृद्धि करते रहें।’ उपरोक्त मंडल पूजा के बाद गृह प्रवेश पूजा की जाती है।गृह प्रवेश पूजा में आवास को गंगाजल से पवित्र करके फिर वरुण देव की पूजा कर बाहर गणपति स्थापना करते हैं। गृह स्वामी अपने हाथ में प्रज्वलित दीपक लेकर अथर्ववेद में बताई निम्न स्तुति करता है- ‘हे भव्य भवन मैं आपको देख रहा हूं व आप मुझे देख रहे हैं। मैं आपके भीतर शांतिपूर्वक निवास करना चाहता हूं।

आपके अंदर विभिन्न देवताओं के अलावा जल व अग्नि भी स्थित हैं। प्रमुख द्वार से अखिल विश्व में मौजूद विभिन्न सकारात्मक ऊर्जाओं का अपने आप घर में प्रवेश हो रहा है।यह प्रार्थना कर दीपक सहित घर में प्रवेश करके उस दीपक को मुख्य स्थान पर स्थापित करते हैं। उस जगह पर पहले से चावल, धान, श्वेत पुष्प व सुंगधित अगरबत्ती जलती हुई मौजूद रहे। प्रवेश के पश्चात दुर्गाजी की आहुतियां हवन में दी जाती हैं। देवताओं की पूजा-अर्चना कर प्रसाद चढ़ाते हैं।

ALSO READ  जब शनि तृतीय भाव में हो...

पूरे घर में दुग्ध जल मिश्रित धारा या पानी में चंदन-तेल मिलाकर छिड़काव करते हैं, ताकि रहने वाले सौभाग्यशाली धन-संपन्न व निरोग रहें। पूजा में प्रयुक्त सामग्री का सीधा संबंध पंच तत्वों से है।दीपक अग्नि तत्व का, जल व दूध, जल तत्व का, अगरबत्ती का धुआं वायु तत्व का, फूल व अक्षत पृथ्वी तत्व का व पूजा की घंटी व शंखनाद आकाश तत्व का प्रतीक हैं।

जरा इसे भी पढ़े

बसंत पंचमी 2023 शुभ मुहूर्त और पूजा विधि…

बुरे वक्त को बदलते के लिए करें ये काम