Vastu

Vastu Tips: घर में नेगेटिव एनर्जी दूर करने के लिए अपनाएं ये 7 उपाय

219views

वास्तुशास्त्र के अनुसार आजकल सभी अपने घर में सुख-समृद्धि और शांति बनाए रखने के लिए उपाय करते हैं, या फिर उसके नियमों का पालन करते हैं। क्योंकि वास्तु के अनुसार यदि हमारे आसपास कुछ वास्तुदोष होते हैं तो व्यक्ति के जीवन में उथल-पुथल बनी रहती है। घर में वास्तुदोष ( Vastu dosh ) होने के कारण घर में नेगेटिव एनर्जी ( Negetive energy ) आ जाती है, जिसके कारण व्यक्ति डिप्रेशन में चला जाता है। लेकिन वास्तुशास्त्र ( Vastushastra ) के अनुसार घर से नकारात्मकता यानी नेगेटिविटी दूर करने के लिए बहुत ही आसान उपाय बताए गए हैं, आइए जानते हैं

1. नेगेटिव एनर्जी घर में ना आए इसके लिए
एक बाल्‍टी पानी में 5 नींबू निचोड़कर, एक कप नमक और लगभग चौथाई कप सफेद सिरका डालकर, इस मिश्रण से घर के सभी खिड़की और दरवाजों को साफ कर दें। इस उपाय से आपके घर में कभी नेगेटिव एनर्जी प्रवेश नहीं करेगी।

2. अच्छे स्वास्थ्य के लिए
आपके घर की किचन पर घर के सदस्‍यों का स्‍वास्‍थ्‍य निर्भर करता है। गैस चूल्हा गंदा ना छोड़े, इसे गंदा रखने से आपके स्वास्थ्य पर असर पड़ता है। इसके अलावा यह चीज़ आपकी आर्थिक तरक्‍की को भी प्रभावित करती है।



3. बेडरूम में करें यह उपाय
बेडरूम में चारों कोनों पर थोड़ा-थोड़ा नमक छिड़क दें। 48 घंटे के बाद चारों कोनों में फिर से नमक छिड़क दें। इससे पूरे कमरे की नेगेटिव एनर्जी खत्‍म हो जाएगी। यहां तक कि कोई व्‍यक्ति बीमार भी उस कमरे में रह चुका होगा तो उसका असर भी खत्‍म हो जाएगा।

4. टॉयलट होने चाहिए ऐसे
घर के सभी टॉयलेट के दरवाजों को हर वक्‍त बंद रखना चाहिए और सभी टॉयलट के ढक्‍कन भी बंद रखने चाहिए। ऐसा करने से नेगेटिव एनर्जी के प्रभाव से आप दूर रहते हैं।

5. घर के सभी हिस्‍सों में बजाएं घंटी
आप अपने घर में निष्‍क्रिय पड़े ऊर्जा के स्रोतों को फिर से जागृत करने के लिए रोजाना कम से कम 3 बार घर के सभी हिस्‍सों में घंटी बजाएं। इस उपाय से लाभ अवश्‍य होगा।

6. कमरों में रखें ताजे फूल
कमरों में ताजे फूलों के गुलदस्‍ते रखने से हर प्रकार की खराब ताकतों का नाश होने लगता है। फूलों की म‍हक मन को खुश करने के साथ ही आत्मिक तौर पर भी शांति का एहसास कराती है।




7. मुख्‍य द्वार को रखें साफ
वास्‍तु के अनुसार, सभी सकारात्‍मक ऊर्जा मुख्‍य द्वार से ही अंदर आती हैं, तो घर का मुख्‍य द्वार सबसे साफ-सुथरा रहना चाहिए।