Daily HoroscopeHoroscopeVIDEO

14/10/2019 का पंचांग एवं राशिफल(कार्तिक मास में तुलसी पूजा तथा तुलसी पौधे के दान से रोग, दुख करें दूर)

196views
  • दिनांक 14. 10.2019 का पंचाग
  • शुभ संवत 2076 शक 1941 …
  • सूर्य दक्षिणायन का …कार्तिक मास कृष्ण पक्ष…. प्रतिपदा… रात्रि को 03 बजकर 33 मिनट तक … सोमवार…. रेवती नक्षत्र.. दिन को 10 बजकर 49 मिनट तक … आज चन्द्रमा … मेष राशि में… आज का राहुकाल दिन को 07 बजकर 27 मिनट से  08 बजकर 54 मिनट तक होगा …

कार्तिक मास में तुलसी पूजा तथा तुलसी पौधे के दान से रोग, दुख करें दूर  –

कार्तिक महीने का हिन्दू धर्म में खास महत्व है। यह मास शरद पूर्णिमा से शुरू होकर कार्तिक पूर्णिमा पर खत्म होता है। इस महीने में दान, पूजा-पाठ तथा स्नान का बहुत महत्व होता है तथा इसे कार्तिक स्नान की संज्ञा दी जाती है। यह स्नान सूर्योदय से पूर्व किया जाता है। स्नान कर पूजा-पाठ को खास अहमियत दी जाती है। साथ ही पवित्र नदियों में स्नान का खास महत्व होता है। इस दौरान घर की महिलाएं नदियों में ब्रह्ममूहुर्त में स्नान करती हैं। यह स्नान विवाहित तथा कुंवारी दोनों के लिए फलदायी होता है। इस महीने में दान करना भी लाभकारी होता है। दीपदान का भी खास विधान है। यह दीपदान मंदिरों, नदियों के अलावा आकाश में भी किया जाता है। यही नहीं ब्राह्मण भोज, गाय दान, तुलसी दान, आंवला दान तथा अन्न दान का भी महत्व होता है।

 हिन्दू धर्म में इस महीने में कुछ परहेज बताए गए हैं। कार्तिक स्नान करने वाले श्रद्धालुओं को इसका पालन करना चाहिए। इस मास में दाल खाना वर्जित होता है। इस महीने में भक्त को बिस्तर पर नहीं सोना चाहिए उसे भूमि शयन करना चाहिए। इस दौरान सूर्य उपासना विशेष फलदायी होती है। दोपहर में सोना भी अच्छा नहीं माना जाता है।

 पर सबसे ज्यादा कार्तिक महीने में तुलसी की पूजा का महत्व है। ऐसा माना जाता है कि तुलसी जी भगवान विष्णु की प्रिया हैं। तुलसी की पूजा कर भक्त भगवान विष्णु को भी प्रसन्न कर सकते हैं। इसलिए श्रद्धालु गण विशेष रूप से तुलसी की आराधना करते हैं। इस महीने में स्नान के बाद तुलसी तथा सूर्य को जल अर्पित किया जाता है तथा पूजा-अर्चना की जाती है। यही नहीं तुलसी के पत्तों को खाया भी जाता है जिससे शरीर निरोगी रहता है। साथ ही तुलसी के पत्तों को चरणामृत बनाते समय भी डाला जाता है। यही नहीं तुलसी के पौधे का कार्तिक महीने में दान भी दिया जाता है। तुलसी के पौधे के पास सुबह-शाम दीया भी जलाया जाता है। अगर यह पौधा घर के बाहर होता है तो किसी भी प्रकार का रोग तथा व्याधि घर में प्रवेश नहीं कर पाते हैं। तुलसी अर्चना से न केवल घर के रोग, दुख दूर होते हैं बल्कि अर्थ, धर्म, काम तथा मोक्ष की भी प्राप्ति होती है।

आज की राशियों का हाल तथा ग्रहों की चाल-

मेष राशि –

     व्यापार के क्षेत्र का विस्तार होगा। जीवनसाथी से संबंधों में मधुरता आएगी। नए कार्यकलापों में सफलता मिलने के योग बनते हैं।

उपाय करें तो लाभ होगा-

     सूक्ष्म जीवों को आहार दें..

     दुर्गाजी के दर्शन करें…

     दुर्गा कवच का पाठ करें …  

 

वृषभ –

     विद्यार्थियों को परिश्रम से अच्छे फल मिलने की उम्मीद है। रुके हुए कार्य पूर्ण किए जा सकेंगे। नौकरी में पदोन्नति के योग बनेंगे।

शांति के लिए –

– सूक्ष्म जीवों की सेवा करें…

– हल्दी, नारियल का दान करें…

– गणपति का पूजन करें…  

 

मिथुन –

     वाहन सावधानी से चलाएं। भाइयों से खटपट हो सकती है। विरोधियों से सावधान रहें। आर्थिक स्थिति मजबूत हो सकेगी।

उपाय –

     – गुड़.. गेहू…का दान करें..

     – भगवती गायत्री की आराधना करें….

 

कर्क –

     लाभ के अच्छे अवसर प्राप्त होंगे। कामकाज, व्यवसाय ठीक चलेगा। सहयोगी कर्मचारियों से मदद मिलेगी।

कष्टों से बचाव के लिए –

     – उॅ नमः शिवाय का जाप करें…

     – दूध, चावल का दान करें…

     – रूद्राभिषेक करें…

 

सिंह –

     नए कार्यों में सफलता मिलने की पूर्ण संभावना बनती है। आत्मविश्वास बढेगा। फिजूलखर्ची से बचना चाहिए। पारिवारिक संबंध प्रगाढ होंगे।

 उपाय करने चाहिए –

– ऊॅ भौं भौमाय नमः का एक माला जाप करें….

– मंदिर में लड्ड़ का भोग लगायें….

 

कन्या –

     परिश्रम का पूरा फल आज आपको मिलेगा। व्यापारिक कार्य से की गई यात्रा लाभप्रद रहेगी। पारिवारिक स्थिति संतोषप्रद रहेगी।

उपाय आजमायें-

– ऊॅ बृं बृहस्पतयै नमः का एक माला जाप करें….

– पुरोहित को केला, नारियल का दान करें….

तुला –

     व्यावसायिक दृष्टि से लाभदायक और अनुकूल संयोग प्राप्त होंगे। पुराने रुके कार्य पूरे हो सकेंगे। गृहस्थ जीवन शांतिमय रहेगा।

दोषों की निवृत्ति के लिए –

– चावल, दूध, दही का दान करें…

– दुर्गासप्तशती का पाठ करें…..

    

वृश्चिक –

     जोखिम-जवाबदारी के कार्यों से दूर रहें। आवेश में आकर कभी कोई कार्य न करें। सामाजिक आयोजनों में भाग लेंगे। संतान से सुख मिलेगा।

शांति के लिए शनि के निम्न उपाय करें –

     – ‘‘ऊॅ शं शनैश्चराय नमः’’ की एक माला जाप कर दिन की शुरूआत करें.

     – भगवान आशुतोष का रूद्धाभिषेक करें…

 

धनु –

     भागीदारी में नए अनुबंध लाभकारी होंगे। मौके का लाभ उठा सकेंगे। मधुर संबंध बनेंगे, जो लाभदायी रहेंगे। स्वास्थ्य को नजरअंदाज नहीं करें।

निवृत्ति के लिए –

     –  मुठ्ठी मूंग का दान करें।

     – पौधे का दान करें…..

 

मकर –

     व्यापार में नई योजनाओं का क्रियान्वयन होगा। मौके का फायदा उठाना आपके हाथ में है। पारिवारिक समस्या हल होगी।

सूर्य के निम्न उपाय आजमायें –

     – सूर्य को अध्र्य देते हुए….. ऊॅ धृणि सूर्याय नमः का पाठ करें…..

  1. गुड़.. गेहू…का दान करें..

 

कुंभ –

     पारिवारिक जीवन सुखद रहेगा। सोच-समझकर निर्णय लेने से लाभ होगा। अपनी वस्तुओं को संभालकर रखना आवश्यक है।

शुक्र के जनित तनाव से निवारण के लिए –

  1. उॅ नमः शिवाय का जाप करें…
  2. दूध, चावल का दान करें…

 

मीन –

     आपकी सलाह को स्वीकार किया जाएगा। संतान पक्ष से शुभ समाचार मिलेंगे। आर्थिक निवेश लाभदायी रहेगा। ईश्वर के प्रति आस्था बढेगी।

 मंगल की शांति के लिए –

  1. ऊॅ भौं भौमाय नमः का एक माला जाप करें….
  2. मंदिर में लड्ड़ का भोग लगायें….