व्रत एवं त्योहार

Papmochani Ekadashi 2020:पापों का नाश करने वाली एकादशी: पापमोचिनी एकादशीजानिए एकादशी व्रत की महिमा और व्रत कथा

47views

Papmochani Ekadashi 2020 Date: जो एकादशी होलिका दहन और चैत्र नवरात्रि (Chaitra Navratri) के बीच में आती है उसे पापमोचिनी एकादशी कहा जाता है। यह हिंदी वर्ष की आखिरी एकादशी है और युगादी से पहले पड़ती है। जैसा कि इस एकादशी के नाम से ही समझ आता है पापों का नाश करने वाली एकादशी। इस दिन व्रत रखने से जाने अनजाने में हुए पापों नष्ट हो जाते हैं और व्यक्ति को मोक्ष की प्राप्ति होती है। इस व्रत में भगवान विष्णु की अराधना की जाती है। जानिए एकादशी व्रत की महिमा और व्रत कथा…

अर्जुन ने कहा- “हे कमलनयन! मैं ज्यों-ज्यों एकादशियों के व्रतों की कथाएँ सुन रहा हूँ, त्यों-त्यों अन्य एकादशियों के व्रतों की कथाएँ सुनने की मेरी जिज्ञासा बढ़ती ही जा रही है। हे मधुसूदन! अब कृपा कर आप चैत्र माह के कृष्ण पक्ष की एकादशी के विषय में बतलाइये। इस एकादशी का नाम क्या है? इसमें कौन-से देवता का पूजन किया जाता है तथा इस व्रत का क्या विधान है? हे श्रीकृष्ण! यह सब आप मुझे विस्तारपूर्वक बताने की कृपा करें।”

ALSO READ  Guru Gochar 2020: 29 मार्च को गुरु शनि की राशि मकर में प्रवेश कर जायेंगे,आईये जाने हम सब की राशियों पर गुरु के राशि परिवर्तन का शुभ अशुभ क्या असर होगा

भगवान श्रीकृष्ण ने कहा- “हे अर्जुन! एक बार यही प्रश्न पृथ्वीपति मान्धाता ने लोमश ऋषि से किया था, जो कुछ लोमश ऋषि ने राजा मान्धाता को बताया था, वही मैं तुमसे कह रहा हूँ। राजा मान्धाता ने धर्म के गुह्यतम रहस्यों के ज्ञाता महर्षि लोमश से पूछा- ‘हे ऋषिश्रेष्ठ! मनुष्य के पापों का मोचन किस प्रकार सम्भव है? कृपा कर कोई ऐसा सरल उपाय बतायें, जिससे सहज ही पापों से छुटकारा मिल जाए।’

महर्षि लोमश ने कहा- ‘हे नृपति! चैत्र मास के कृष्ण पक्ष की एकादशी का नाम पापमोचिनी एकादशी है। उसके व्रत के प्रभाव से मनुष्यों के अनेक पाप नष्ट हो जाते हैं। मैं तुम्हें इस व्रत की कथा सुनाता हूँ, इसकी कथा के अनुसार प्राचीन समय में चित्ररथ नामक एक रमणिक वन था। इस वन में देवराज इन्द्र गंधर्व कन्याओं तथा देवताओं सहित स्वच्छंद विहार करते थे।

ALSO READ  18 मार्च 2020 का राशिफल:वृषभ राशि वालें जातकों के आज व्यवसायिक यात्रा में नये अवसर की प्राप्ति तथा लाभ की स्थिति बनेगी, जोश तथा उत्साह से काम में लाभ

एक बार मेधावी नामक ऋषि भी वहाँ पर तपस्या कर रहे थे। वे ऋषि शिव उपासक तथा अप्सराएँ शिव द्रोहिणी अनंग दासी (अनुचरी) थी। एक बार कामदेव ने मुनि का तप भंग करने के लिए उनके पास मंजुघोषा नामक अप्सरा को भेजा। युवावस्था वाले मुनि अप्सरा के हाव भाव, नृत्य, गीत तथा कटाक्षों पर काम मोहित हो गए। रति-क्रीडा करते हुए 57 वर्ष व्यतीत हो गए।

एक दिन मंजुघोषा ने देवलोक जाने की आज्ञा माँगी। उसके द्वारा आज्ञा माँगने पर मुनि को भान आया और उन्हें आत्मज्ञान हुआ कि मुझे रसातल में पहुँचाने का एकमात्र कारण अप्सरा मंजुघोषा ही हैं। क्रोधित होकर उन्होंने मंजुघोषा को पिशाचनी होने का श्राप दे दिया।

ALSO READ  क्या आपकी कुंडली में हैं IAS, IPS बनने के योग? सिविल सेवा के क्षेत्र में ग्रहों की अहम भूमिका

श्राप सुनकर मंजुघोषा ने काँपते हुए ऋषि से मुक्ति का उपाय पूछा। तब मुनिश्री ने पापमोचनी एकादशी का व्रत रखने को कहा और अप्सरा को मुक्ति का उपाय बताकर पिता च्यवन के आश्रम में चले गए। पुत्र के मुख से श्राप देने की बात सुनकर च्यवन ऋषि ने पुत्र की घोर निन्दा की तथा उन्हें पापमोचनी चैत्र कृष्ण एकादशी का व्रत करने की आज्ञा दी। व्रत के प्रभाव से मंजुघोष अप्सरा पिशाचनी देह से मुक्त होकर देवलोक चली गई।