Gems & Stones

जानें,मोती धारण करने के चमत्कारी फ़ायदे

247views

जानें,मोती धारण करने के चमत्कारी फ़ायदे

रत्‍न प्रकृति के वो अनमोल उपहार हैं, जिन्हें धारण करने से आपके जीवन में एक सकारात्मक बदलाव आता है और नवग्रहों से जुड़ी समस्याएं दूर होती हैं। चंद्रमा के रत्न मोती की शुभता को पाने के लिए क्या कुछ होते हैं नियम —

नवग्रहों की शुभता बढ़ाने और अशुभता को दूर करने में रत्नों की अहम भूमिका निभाते हैं। ये प्रकृति के वो अनमोल उपहार हैं, जिन्हें धारण करने से आपके जीवन में एक सकारात्मक बदलाव आता है और नवग्रहों से जुड़ी समस्याएं दूर हो जाती हैं। दुनिया भर में पाए जाने वाले विभिन्न रत्नों को धारण करने की अपनी अलग-अलग मान्यताएं हैं। मसलन भारतीय ज्योतिष में किसी भी जातक की जन्म राशि, नाम राशि, जन्म नक्षत्र, जन्मतिथि आदि को ध्यान में रखते हुए रत्न धारण करने के लिए बताया गया है।

किसी भी व्यक्ति की कुंडली में ग्रहों की शुभता और अशुभता के अनुसार ही रत्नों को धारण करने की सलाह दी जाती है। आइए जानते हैं कि किसी रत्न को खरीदने से लेकर पहनने तक के महत्वपूर्ण नियम इसके धारण करने से मात्री पक्ष से मधुर सम्बन्ध तथा लाभ प्राप्त होते है! मोती धारण करने से आत्म विश्वास में बढहोतरी भी होती है ! हमारे शरीर में द्रव्य से जुड़े रोग भी मोती धारण करने से कंट्रोल किये जा सकते है जैसे ब्लड प्रशर और मूत्राशय के रोग,लेकिन इसके लिए अनुभवी ज्योतिष की सलाह लेना अति आवशयक है, क्योकि कुंडली में चंद्र अशुभ होने की स्तिथि में मोती नुक्सान दायक भी हो सकता है!पागलपन जैसी बीमारियाँ भी कुंडली में स्थित अशुभ चंद्र की देंन होती है , इसलिए मोती धारण करने से पूर्व यह जान लेना अति आवशयक है की हमारी कुंडली में चंद्र की स्थिति क्या है! छोटे बच्चो के जीवन से चंद्र का बहुत बड़ा सम्बन्ध होता है क्योकि नवजात शिशुओ का शुरवाती जीवन , उनकी कुंडली में स्थित शुभ या अशुभ चंद्र पर निर्भर करता है! यदि नवजात शिशुओ की कुंडली में चन्द्र अशुभ प्रभाव में हो तो बालारिष्ठ योग का निर्माण होता है! फलस्वरूप शिशुओ का स्वास्थ्य बार बार खराब होता है, और परेशानिया उत्त्पन्न हो जाती है , इसीलिए कई ज्योतिष और पंडित जी अक्सर छोटे बच्चो के गले में मोती धारण करवाते है।

 शुभ फल देता है हमेशा मोती

जिस तरह चंद्रमा एक सौम्य ग्रह है, कुछ उसी तरह इसका रत्न मोती भी कभी विपरीत फल नहीं देता है। ज्योतिष के अनुसार कर्क लग्न और कर्क राशि के लोगों के लिए मोती अत्यंत शुभ और उन्नति प्रदान करने वाला होता है। सभी प्रकार के मोती शुभ फल देने वाले, पुत्र, धन और सौभाग्य प्रदान करने वाले होते हैं।

जानें,मोती धारण करने की विधि

चंद्र रत्न मोती को पहनने के लिए कभी भी सवा चार रत्ती से कम का न खरीदें। इसे आप अंगूठी, लाकेट में पहन सकते हैं। मोती को हमेशा सोमवार को खरीना चाहिए। इसे चांदी में बनवाकर कनिष्ठिका या फिर अनामिका में पहना जाता है। मोती को पहनने के ​पहले शुभ समय अवश्य देख लें। मोती की प्राण प्र​तिष्ठा करने किसी भी पुष्य नक्षत्र, सोमपुष्य या सोमवार को आये अमृत सिद्ध योग में की जा सकती है। इनमें से कोई भी शुभ समय में चंद्रेदेव का पूजन और उनके मंत्र का जप करके मोती धारण करें।

कैसे करें असली मोती की पहचान

मोती असली है या फिर नकली, इसे जानने के लिए उसे शीशे की ग्लास में पानी भर के डाल दें। यदि मोती में से किरण निकलते हुए नजर आये तो समझ लें कि मोती असली है। इसी तरह मोती को आप मिट्टी के बतरन में गोमूत्र डालकर उसमें मोती को रात भर के लिए रख दें। यदि सुबह मोती जैसा का तैसा रहे तो समझ लीजिए कि मोती असली है।

जब न मिल पाए मोती

यदि किसी कारण से आपको चंद्र रत्न मोती न मिल पाये तो आप उसकी जगह खिरनी की जड़ सफेद तागे या ​कपड़े में बांध कर धारण कर सकते हैं।

जरा इसे भी पढ़ें  :- 

अशुभ ग्रह से बचाव कैसे करें ? जानें

कैरियर में बाधा ? तो अपनाएं लाल किताब के उपाय 

घर में यहाँ लगाए तुलसी के पौधे,होगी धन की बारिश

Horoscope Today 10 November 2022 : इन राशि जातिकों का रहेगा दिन शुभ,जानें अपने राशि का हाल…

रोग निवारण के लिए अपनाएं ज्योतिष उपाय