उपाय लेखग्रह विशेष

जब चन्द्रमा पंचम भाव में हो

63views

चन्द्रमा पंचम भाव में

याद रहे यहां चन्द्रमा की स्थिति जातक को सन्तान के रूप में लड़कियां ही देती है। अतः मोती धारण करने से लड़कियां पैदा अधिक संभावना है।

1.मेष लग्न – इस कुण्डली में चतुर्थेश होकर चन्द्रमा पंचम भाव में सिंह राशि में स्थित होगा,मोती धारण करना हानिकारक नहीं है।

2.वृष लग्न – चन्द्रमा तृतीयेश होकर पंचम भाव में कन्या राशि में स्थित होगा,मोती धारण करने से जातक अपने पराक्रम तथा बुद्धि बल से सफलता प्राप्त करेगा।

3.मिथुन लग्न – चन्द्रमा द्वितीयेश होकर पंचम भाव में तुला राशि में स्थित होगा,अतः मोती धारण करने से धन लाभ होगा।

ALSO READ  वास्तुदोष दूर करने के लिए घर मे लगाए इस जगह तुलसी के पौधे

4. कर्क लग्न – चन्द्रमा लग्नेश होकर पंचम भाव में नीच राशि वृश्चिक में स्थित होगा। मोती धारण करने से सन्तान सुख में कमी होगी जिसका कारण आप स्वयं होंग। विद्या प्राप्ति में बाधा आऐगी।

5. सिंह लग्न – चन्द्रमा द्वादशेश होकर पंचम भाव में धनु राशि में स्थित होगा। मोती धारण करना अशुभ है। आमदनी से खर्च अधिक रहेगा।

6.कन्या लग्न – चन्द्रमा लाभेश होकर पंचम भाव में मकर राशि में स्थित होगा अतः मोती धारण करने से धन लाभ में वृद्धि होगी। यश-मान में वृद्धि होगी।

7.तुला लग्न – चन्द्रमा अष्टमेश बनता है। पंचम भाव में मेष राशि में यह सन्ताह के लिए हानिकारक है। अतः मोती धारण न करें।

ALSO READ  जब बुध नवम भाव में हो

8.वृश्चिक लग्न- चन्द्रमा भाग्येश होकर पंचम भाव में मीन राशि में स्थित होगा, मोती धारण करने से भाग्य की वृद्धि होगी। मोती अवश्य धारण करें।

9.धनु लग्न – चन्द्रमा अष्टमेश बनता है। पंचम भाव में मेष राशि में यह सन्तान के लिए हानिकारक है। अतः मोती धारण न करें।

10. मकर लग्न – चन्द्रमा सप्तमेश होकर पंचम भाव में वृष राशि में स्थित होगा। मोती धारण करने से शादि का योग बन सकता है। लव अफेयर में सफलता प्राप्त होगी।

11. कुम्भ लग्न – चन्द्रमा पंचमेश होकर पंचम भाव में मिथुन राशि में स्थित होगा। अतः मोती धारण करना हानिकारक हो सकता है।

ALSO READ  घर की सुख-समृद्धि के लिए घर में ये लगाए ये चीज ?

12.मीन लग्न – चन्द्रमा पंचमेश होकर पंचम भाव में अपनी राशि कर्क में स्थित होग,परीक्षाओं में सफलता मिलेगी।

जरा इसे भी पढ़े 

जब,चन्द्रमा चतुर्थ भाव में हो…