AlmanacastrologerAstrology

पढ़ने में है कमजोर ? तो , जानें कौन से ग्रह हैं जिम्मेदार

11views

पढ़ने में है कमजोर ? जानें कौन से ग्रह हैं जिम्मेदार

Grah Dosha: बच्चों के पढ़ाई- लिखाई में कमजोर होने के पीछे बुध और चंद्रमा जैसे ग्रहों को जिम्मेदार माना जाता है। ऐसा कहते हैं कि जब कुंडली में इन दोनों ग्रहों स्थिति खराब हो तो बच्चे पढ़ाई में कमजोर रह जाते हैं। हालांकि कुछ विशेष उपाय करके कुंडली के इनके दोषों को दूर किया जा सकता है।

श्री महाकाल धाम मे अपनी बुध ग्रह  पूजन बुक करने के लिए यहाँ क्लिक करें 👈🏿

अच्छी पढ़ाई-लिखाई के लिए एकाग्रता बहुत जरूरी होती है। यदि किसी इंसान की एकाग्रता भंग है तो निश्चित ही उसे पढ़ाई में अच्छे परिणाम नहीं मिलेंगे। यदि आपका बच्चा पढ़ाई-लिखाई में अच्छा नहीं है तो इसके पीछे दो प्रमुख ग्रह जिम्मेदार हो सकते हैं। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार, चंद्रमा और बुध का हमारी एकाग्रता से सीधा कनेक्शन होता है। चंद्रमा मन को प्रभावित करता है और बुध मस्तिष्क को। बच्चों के पढ़ाई, लिखाई में कमजोर होने के पीछे इन दोनों ग्रहों को ही जिम्मेदार माना जाता है। इनका दोष केवल शैक्षणिक स्तर पर ही नुकसान नहीं पहुंचाता, बल्कि करियर के मोर्चे पर  भी असफलता का कारण बनता है.

श्री महाकाल धाम अमलेश्वर में  पूजा की बुकिंग के लिए पंडित प्रियाशरण त्रिपाठी  से संपर्क करे +91 9753039055

बुध ग्रह पढ़ाई में कब दिक्कत देता है  ?

ALSO READ  पितृ दोष से आती है शादी और नौकरी में बाधाएं,जानिए इसके निदान...

श्री महाकाल धाम मे अपनी कालसर्प  पूजन बुक करने के लिए यहाँ क्लिक करें 👈🏿

बुद्धि के प्रदाता बुध जब कुंडली के छठे, आठवें या बारहवें भाव में बैठे हों और इन पर देव गुरु बृहस्पति की दृष्टि पड़े तो शिक्षा के क्षेत्र में बहुत समस्याएं आती हैं। यदि शिक्षा के ग्रह ही कुंडली में पीड़ित होंगे तो पढ़ाई-लिखाई के मामले में जातकों का पिछड़ना स्वभाविक है

श्री महाकाल धाम मे अपनी अर्क विवाह / कुम्भ  विवाह पूजन बुक करने के लिए यहाँ क्लिक करें 👈🏿

 पढ़ाई में रुकावट कब आता है ?

ज्योतिष में चंद्रमा का शिक्षा के साथ खास कनेक्शन बताया गया है। ऐसा कहते हैं कि यदि किसी जातक की कुंडली में चंद्रमा पीड़ित है तो उसे शिक्षा के क्षेत्र में बहुत संघर्ष करना पड़ता है। हालांकि अगर कुंडली में चंद्रमा पर देव गुरु बृहस्पति की दृष्टि हो तो परिणाम ज्यादा बुरे नहीं होते हैं।

ALSO READ  Rahu: मानसिक शांति भंग कर सकता है राहु ? जानें इसके बचने के उपाय...

श्री महाकाल धाम मे अपनी पार्थिव पूजन बुक करने के लिए यहाँ क्लिक करें 👈🏿

इन तरह के सभी कार्मिक ज्योतिष के बाधाओं निवृत्ति के लिए विगत 20 वर्षों से श्री अमलेश्वर महाकाल धाम में नारायणबलि, नागबलि, त्रिपिंडि श्राद्ध, कालसर्प , अर्क विवाह , कुंभ विवाह , कराये जा रहे है। खारून के तट पर बना श्री महाकाल धाम तिर्थ जहां देश भर से श्रद्धालु पधारते है। संपर्क सूत्र – पंडित प्रियाशरण त्रिपाठी ज्योतिषाचार्य  – 9753039055 / 9893363928