Astrologyग्रह विशेष

सूर्य का कुंभ राशि में गोचर: कुंभ राशि में सूर्य का यह परिवर्तन सभी 12 राशियों पर क्या प्रभाव डालेगा, और उससे जुड़े उपाय

130views

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार सूर्य सौरमंडल का सबसे अधिक प्रभावशाली ग्रह है| श्रीमद्भागवत गीता में सूर्य को सूर्य नारायण के नाम से सम्बोधित किया गया है, और वेदों में सूर्य को ही सम्पूर्ण जीव-जगत की आत्मा माना गया है| किसी भी जातक की कुंडली में सूर्य का अहम स्थान होता है, कुंडली में सूर्य अच्छी स्थिति में हो, बाकि के ग्रह कमजोर हो तो भी जातक अपने आत्मबल से सब कुछ पा लेता है| इसलिए अन्य ग्रहों की तुलना में सूर्य को सर्वश्रेष्ठ स्थान दिया गया है| यह सृष्टि का स्वरूप है, जो पालक रूप में प्रत्यक्ष है| सूर्य को नवग्रहों में राजा की उपाधि प्राप्त है, यह संपूर्ण जगत में प्रकाश फैलता है, और सूर्य ही राजकृपा और यश का भी कारक माना जाता है| कुंडली में सूर्य को ही आत्मा, पिता, पूर्वज और सम्मान आदि का कारक कहा गया है|

अगर किसी जातक की जन्म कुंडली में सूर्य शुभ स्थिति में है, तो व्यक्ति को भाग्य, आरोग्य, मान-सम्मान और यश आदि की प्राप्ति होती है| वहीं अगर सूर्य कुंडली में अशुभ स्थिति में रहता है, तो पिता के सुख और आत्मविश्वास में कमी आती है, यह नेत्र पीड़ा के लिए भी जिम्मेदार होता है| सूर्य का गोचर सभी राशियों के लिए खास परिवर्तन लाता है| ज्योतिष के अनुसार सूर्य का यह गोचर 13 फरवरी गुरुवार के दिन दोपहर 15 बजकर 03 मिनट पर होने जा रहा है| इस गोचर के दौरान सूर्य मकर राशि से कुंभ राशि में प्रवेश करेंगे| और अगले महीने में 14 मार्च की सुबह 11 बजकर 54 मिनट तक यहीं पर रहेंगे| ऐसे में सूर्य का यह गोचर प्रत्येक राशि के जातकों पर शुभाशुभ प्रभाव डालेगा|

कुम्भ संक्रांति का महत्व-

सूर्य की यह कुंभ संक्रांति अत्यंत श्रेष्ठ है, क्योंकि इस दिन सिद्धि योग भी बन रहा है| शास्त्रों में पुण्यकाल के दौरान पवित्र नदियों में स्नान और दान का महत्व बताया गया है। आपको बता दें कि सूर्य की कुंभ संक्रांति के दौरान गोदावरी नदी में स्नान-दान का महत्व है, और इस दिन गुड़, तिल, गेहूं, चावल, उड़द की दाल आदि ब्राह्मण या किसी गरीब व्यक्ति को दान करें| ग्रहों की शांति, पितृ दोष व मोक्ष प्राप्ति के लिए भी कुम्भ संक्रांति को बहुत ही लाभकारी माना जाता है|

कुंभ राशि में सूर्य का यह परिवर्तन सभी 12 राशियों पर क्या प्रभाव डालेगा, आइये जानते हैं,

मेष राशि (Aries)

मेष राशि वालों के लिए सूर्यदेव आपकी राशि से पांचवें भाव के स्वामी होकर ग्यारहवें भाव में गोचर करेंगे| इस गोचर के दौरान आपको धन लाभ और कार्यों में सफ़लता प्राप्त होगी| आपको धन लाभ के अवसर मिलेंगे, साथ ही बहुत दिनों से अधूरी पड़ी आपकी कोई इच्छा पूरी होगी, आपके आत्मविश्वास में वृद्धि होगी, और इस समय आपकी आध्यात्मिक एवं धार्मिक गतिविधियों में रुचि बढ़ेगी, जिससे आपके अंदर परोपकार की भावना बढ़ेगी,व्यवसायी जातकों के लिये भी सूर्य का कुंभ राशि में आना सकारात्मक परिणाम देने वाला रहेगा| विद्यार्थियों के लिए समय अच्छा रहने वाला है| यदि आप किसी परीक्षा की तैयारी कर रहे हैं, तो यह समय आपके लिए शुभ फलदायक रहेगा|

उपाय-
सूर्य यंत्र 
की स्थापना कर उसकी पूजा अर्चना करें|
तांबे के बर्तन में गेहूं भरकर धार्मिक स्थान में दान करें|

ALSO READ  कर्ज से हैं परेशान ? तो करें ये ज्योतिष उपाय...

वृषभ राशि (Taurus)

वृषभ राशि वालों के लिए सूर्यदेव आपकी राशि से चौथे भाव के स्वामी होकर दशवें भाव में गोचर करेंगे| यहाँ सूर्य को दिग्बल भी प्राप्त होता है| अगर आप वाहन खरीदने या फिर रियल एस्‍टेट में निवेश करना चाहते हैं| तो यह समय आपके लिए बेहद अनुकूल है| यदि आप राजनीति या सामाजिक कार्यों से जुड़े हैं, तो यह समय आपके लिए लाभप्रद है| यह परिवर्तन आपको अपने लक्ष्यों की प्राप्ति कराएगा, जिससे आपके आत्मविश्वास में बढ़ोत्तरी आएगी, और आय में वृद्धि के भी योग बन रहे हैं| किसी संपत्ति को खरीदने या बेचने के बारे में कोई महत्वपूर्ण फैसला ले सकते हैं|

उपाय-
6 मुखी रुद्राक्ष धारण करें|
गाय की सेवा करें, और बहते पानी में तांबे का सिक्का बहाएं|

मिथुन राशि (Gemini)

मिथुन राशि वालों के लिए सूर्यदेव आपकी राशि से तीसरे भाव के स्वामी होकर नवमें भाव में गोचर करेंगे| यह परिवर्तन भाग्य स्थान में हो रहा है, मिथुन राशि के जातकों का यह समय भाग्योदय करने वाला रहेगा| इस गोचर के दौरान आपकी इच्छाशक्ति में बढोतरी होगी, और आपका शरीर ऊर्जा से भरपूर रहेगा, किसी छोटी यात्रा पर भी जा सकते हैं| धार्मिक कार्यों में आपकी रुचि बढ़ेगी| समाज के प्रतिष्ठित लोगों के साथ आपका मेल मिलाप बढ़ेगा| झूठे आरोपों से बचकर रहना होगा| पिता के साथ किसी बात पर बहस हो सकती है, उनकी सेहत भी खराब हो सकती है| यह समय विवेक से काम लेकर निर्णय लेने वाला है| जीवन साथी के साथ अच्छा समय बिताएंगे| कुल मिलाकर आपकी राशि के लिए यह गोचर उत्तम साबित होगा|

उपाय-
नित्य सूर्य को जल चढ़ाएं और गणेश भगवान की पूजा अर्चना करें|
चितकबरे रंग की गाय को मीठी रोटी खिलाएं|

कर्क राशि (Cancer)

कर्क राशि वालों के लिए सूर्यदेव आपकी राशि से दूसरे भाव के स्वामी होकर आठवें भाव में गोचर करेंगे| यह समय आपके लिए विशेष संभल कर रहने का है, विशेषकर स्वास्थ्य के मामले में सचेत रहें, क्योंकि इस दौरान आपका स्वास्थ्य अधिक बिगड़ सकता है| मानसिक तनाव और व्यर्थ की चिंताएं आपको घेर सकती हैं| इस वक्‍त आपको वाहन भी बहुत ही सावधानी से चलाने की आवश्‍यकता है, व्यवसाय में कार्यरत लोग भी लेन-देन व धन निवेश करने को लेकर थोड़ा अलर्ट रहें, इस समय अब्धि में आपको आर्थिक तंगी का सामना करना पड़ सकता है| इस समय आपको अपने आत्मबल को मजबूत बनाने की आवश्यकता है, कोई बड़ा व महत्वपूर्ण निर्णय इस समय के दौरान न लें| इस दौरान कुछ बेवजह की यात्राएं होने से आपका धन खर्च होगा,

उपाय-
शुभ फलों की प्राप्ति के लिए गौरी शंकर रुद्राक्ष धारण करें|
शुक्ल पक्ष के रविवार से 800 ग्राम गेहूं और 800 ग्राम गुड़ मंदिर में चढ़ाएं, ये कार्य लगातार आठ रविवार करें|

सिंह राशि (Leo)

सिंह राशि वालों के लिए सूर्यदेव आपकी राशि के स्वामी होकर सातवें भाव में गोचर करेंगे| इस समय आपकी सेहत में सुधार जरूर आएगा,लेकिन आपको अपने पार्टनर के साथ थोड़े मतभेद का सामना करना पड़ सकता है, इसलिए धैर्य से काम लें, अगर आप साझेदारी में बिजनेस कर रहे हैं,तो इस वक्‍त थोड़ा सावधानी की जरूरत है| क्योंकि इस समय आपके साथ धोखाधड़ी भी हो सकती है| नौकरी करने वाले जातकों का काम पर ध्यान नहीं लगा पाने के चलते मुश्किल बढ़ सकती है| आपको अपने उद्देश्यों को प्राप्त करने के लिए बहुत ज्यादा मेहनत करनी होगी|

ALSO READ  जानिए ? वास्तु के अनुसार कहाँ रखने चाहिए जूते-चप्पल

उपाय-
ॐ सूर्याय नम: 
मंत्र से सूर्य का जप करें|
पिता और बड़े भाई की आज्ञा का पालन करें, और काम पर जाते समय थोड़ा मीठा गुड़ खाकर पानी पी लें|

कन्या राशि (Virgo)

कन्या राशि वालों के लिए सूर्यदेव आपकी राशि से बारहवें भाव के स्वामी होकर छठे भाव में गोचर करेंगे| इस समय आप अपने शत्रुओं पर हावी रहेंगे, यदि कोई मुकदमा चल रहा है तो उसमे आपकी जीत हो सकती है, इस दौरान आपके खर्चे भी बढ़ेंगे, जिसके कारण आपकी आर्थिक स्थिति कमजोर हो सकती है| किसी भी प्रकार का झगड़ा आपको परेशानी में डाल सकता है, किसी सुदूर यात्रा पर जाने से आपको कोई परेशानि हो सकती है, इसलिए जहाँ तक संभव हो सके इस समय अब्धि में किसी भी लम्बी यात्रा का त्याग करें|

उपाय-
विष्णुसहस्रनाम स्त्रोत्र 
का पाठ करें|
रविवार के दिन धार्मिक स्थान पर अपनी क्षमतानुसार दान करें|

तुला राशि (Libra)

तुला राशि वालों के लिए सूर्यदेव आपकी राशि से ग्यारहवें भाव के स्वामी होकर पांचवें भाव में गोचर करेंगे| इस समय आर्थिक लाभ और आय में वृद्धि की संभावना है, नौकरी और बिजनेस में प्रगति होगी, आगे बढ़ने के कई अवसर मिलेंगे| आपको अपने स्वास्थ्य का खास ख्‍याल रखना होगा, इस वक्‍त आपको पाचन से संबंधित कोई समस्‍या हो सकती है, पंचम स्थान का सूर्य गर्भ धारण करने में विघ्न उत्पन करता है| यदि महिला है और गर्भवती ( Pregnant ) है तो यह समय संभलकर रहने का है| प्रेम संबंधों में गलतफ़हमी आ जाने के कारण कुछ तनाव रह सकता है, लेकिन आप इसे जल्द ही सुलझा लेंने में सफल होंगे|

उपाय-
सूर्य यंत्र 
की स्थापना पूजा स्थान पर करें|
ॐ नमो भगवते वासुदेवाय नम: का नित्य १०८ बार जप करना श्रेयकर होगा|
बंदरों को गुड़, चना तथा भुनी हुई गेहूं,शकर मिलाकर खिलाएं|

वृश्चिक राशि (Scorpio)

वृश्चिक राशि वालों के लिए सूर्यदेव आपकी राशि से दशवें भाव के स्वामी होकर चौथे भाव में गोचर करेंगे| यह समय आपके लिए लाभकारी रहने वाला है| इस वक्‍त आपको तरक्‍की मिलने की संभावना बहुत ज्‍यादा है,क्‍योंकि आपके उच्‍च अधिकारी भी इस वक्‍त आप पर प्रसन्‍न रहेंगे| कार्यस्थल पर आप पूरी एकाग्रता के साथ काम कर सकते हैं, आपकी मेहनत का सम्पूर्ण फल आपको इस समय मिलेगा, प्रमोशन के साथ आय में वृद्धि भी हो सकती है| कार्यस्थल पर आप अपना बेहतरीन प्रदर्शन करेंगे, अपने काम की बदौलत आपके मान सम्मान में वृद्धि होगी और नई पहचान बनेगी| पारिवारिक जीवन में आपको कुछ महत्वपूर्ण निर्णय लेने पड़ सकते हैं, मां की सेहत में थोड़ी खराब हो सकती है|

उपाय-
आदित्यह्रदय स्त्रोत 
का पाठ करें|
जरूरतमंद और ने‍त्रहीन लोगों को दान दें और खाना बांटें|

धनु राशि (Sagittarius)

धनु राशि वालों के लिए सूर्यदेव आपकी राशि से नवमें भाव के स्वामी होकर तीसरे भाव में गोचर करेंगे| इस समय के दौरान आप कुछ ऐसे फ़ैसले लेंगे, जो आगे चलकर फ़ायदेमन्द साबित होंगे| धार्मिक और आध्यात्मिक कार्यों में रुचि बढ़ेगी, सार्वजनिक जीवन में आपका मान सम्मान बढ़ता जाएगा| आपके सकारात्मक विचार आपको ऊंचाइयों पर ले जा सकते हैं| आपके छोटे भाई-बहनों को किसी समस्या का सामना करना पड़ सकता है, आपको उनका भी ध्यान रखना होगा, इस समय में किसी पड़ोसी या नज़दीकी व्यक्ति से विवाद हो सकता है, अतः विवादों से बचने की कोशिश करें| काम के सिलसिले में छोटी दूरी की यात्राएं हो सकती हैं,

ALSO READ  वासुकी नामक कालसर्पयोग के दोष और उपाय

उपाय-
ॐ आदित्याय विदमहे दिवाकराय धीमहि तन्न: सूर्य: प्रचोदयात,
 इस मंत्र का प्रतिदिन 108 बार जप करें|
पानी में थोड़ा गुड़ डालकर भगवान सूर्य को अर्घ्य प्रदान करें|

मकर राशि (Capricorn)

मकर राशि वालों के लिए सूर्यदेव आपकी राशि से आठवें भाव के स्वामी होकर दूसरे भाव में गोचर करेंगे| इस समय आपको अपनी वाणी पर विशेष नियंत्रण रखने की आवश्यकता है| आपके द्वारा बोली जाने वाली कड़वी बातों से आपके परिवार के लोग आहत हो सकते हैं,आर्थिक मामलों के लिए भी यह समय अनुकूल नहीं कहा जाएगा, अतः बेवजह के खर्चों पर लगाम लगाना जरूरी है, लंबे वक्त से चली आ रही कोई शारीरिक बीमारी से मुक्ति मिल सकती है, इस दौरान ससुराल पक्ष से भी आर्थिक लाभ मिलने के संकेत हैं| गोचर के प्रभाव से आपके अंदर आध्यात्मिक चिंतन बढ़ेगा| इस वक्‍त आपकी आंख में कुछ परेशानी हो सकती है|

उपाय-
हनुमानाष्टक का पाठ 
करें, और कबूतरों को बाजरा खिलाएं|
पितरों की पूजा और तर्पण करें|

कुंभ राशि (Aquarius)

कुम्भ राशि वालों के लिए सूर्यदेव आपकी राशि से सातवें भाव के स्वामी होकर आपकी राशि में ही गोचर करेंगे| बिजनेस की दृष्टि से यह गोचर नए अवसर लेकर आएगा, और आर्थिक स्थिति में भी लाभ होगा, यदि आप विदेश जाने के इच्छुक हैं, तो यह समय आपके लिए उत्तम साबित होगा| लेकिन इस दौरानलाभ से अधिक खर्चे बढ़ेंगे, और मानसिक तनाब भी बना रहेगा, इस दौरान आपका और आपकी माता जी का स्वास्थ्य ख़राब हो सकता है, स्वास्थ्य के मामले में संयम और समझदारी से काम लें| यदि आप पार्टनरशिप में बिज़नेस कर रहे हैं, तो बिजनेस पार्टनर से थोड़ा सावधान रहें| प्रेम जीवन में भी कुछ परेशानी रह सकती हैं| प्रत्येक बात सोच-विचार कर के ही करें|

उपाय-
सात मुखी रुद्राक्ष
 धारण करना श्रेयकर रहेगा|
शनिवार को पीपल के वृक्ष के नीचे घी का दिया जलाएं|

मीन राशि (Pisces)

मीन राशि वालों के लिए सूर्यदेव आपकी राशि से छठे भाव के स्वामी होकर आपकी राशि में ही गोचर करेंगे| नौकरी कर रहे लोगों के लिए तो यह अवधि बेहद लाभप्रद रहने वाली है, जो लोग सरकारी सेवा में हैं, उन्हें इस दौरान कोई शुभ समाचार प्राप्त हो सकता है| परिश्रम का उचित लाभ मिलेगा, लेकिन इस गोचर में अहंकारवश कोई ऐसा कार्य मत करना जिसके कारण आपको दिक्क्तों का सामना करना पड़े| विद्यार्थियों के लिए समय अच्छा है आप प्रतियोगी परीक्षाओं में सफलता प्राप्त कर सकते हैं| इस दौरान लोन लेने की भी सोच सकते हैं| वैवाहिक जीवन सामान्य रहेगा, इस समय के दौरान आपको अपने स्वास्थ्य का ख्याल रखना भी जरूरी होगा|

उपाय-
सूर्य यंत्र 
की स्थापना कर उसकी पूजा अर्चना करें|
नित्य भगवान श्री राम की आराधना करें|
मंदिर या किसी धार्मिक स्थान पर गेहूं, चावल, ताम्बे का लोटा और गुड़ आदि वस्तुओं का दान करें|