व्रत एवं त्योहार

धनतेरस के दिन कुछ खास जरूर खरीदना चाहिए!! आइए जानते हैं इसके बारे में

249views

Dhanteras 2020: कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी को धन्वंतरि भगवान हाथों में अमृत कलश लेकर समुन्द्र मंथन से निकले थे। उसी उपलक्ष्य में धनतेरस का त्योहार मनाया जाता है। इस दिन से ही 5 दिवसीय दीपावली पर्व प्रारंभ हो जाता है। ऐसी मान्यता है कि धनतेरस के दिन कुछ खास जरूर खरीदना चाहिए। धनतेरस के पावन दिन पर कैसे पाएं भगवान धन्वंतरि और मां लक्ष्मी का आशीर्वाद? आइए जानते हैं इसके बारे में।

धनतेरस पर क्या खरीदें

1. लक्ष्मी-गणेश की मूर्ति खरीदें

धनतेरस के दिन लक्ष्मी-गणेश की मूर्ति, सोने-चांदी के सिक्के आदि खरीदने की परंपरा है। इससे घर में धन और अन्न की कमी नहीं होती। चांदी चंद्रमा का प्रतीक होता है और इससे घर में शीतलता आती है।

2. धनतेरस पर साबुत धनिया खरीदें

धनतेरस के दिन साबुत धनिया खरीदें। दिवाली की रात लक्ष्मी जी के सामने साबुत धनिया रखें। अगले दिन प्रात: साबुत धनिए को गमले में बो दें। ऐसी मान्यता है कि अगर साबुत धनिए से हरा-भरा स्वस्थ पौधा निकले तो आर्थिक स्थिति सुदृढ़ रहती है। अगर धनिए का पौधा पतला है तो सामान्य आय होती है। पीला व बीमार पौधा निकले या पौधा नहीं निकले है तो आर्थिक परेशानियां आती हैं।

3. धनतेरस पर रूद्राक्ष की माला खरीदें

धनतेरस पर रूद्राक्ष की माला अवश्य खरीदें। धनतेरस के दिन कौड़ी खरीदकर घर लाएं और अटूट धन प्राप्ति हेतु दीपावली के रात महालक्ष्मी का षोडशोपचार पूजन करके केसर से रंगी कौड़ियां समर्पित कर पीले कपड़े में बांधकर तिजोरी में रखें।

4. धनतेरस पर नमक खरीदें

धनतेरस और दिवाली के दिन नमक का पैकेट खरीद कर घर लाएं और उसे खाना बनाने में उपयोग करें। इससे सारा साल लक्ष्मी कृपा बनी रहती है। दिवाली के रोज नमक के पानी का पोंछा लगाने से गरीबी दूर होती है।

5. श्रीयंत्र खरीदें

धनतेरस के ​दिन श्रीयंत्र खरीदकर लाना भी घर के सौभाग्य में वृद्धि करता है। हो सके तो चांदी से निर्मित श्रीयंत्र घर लाएं। श्रीयंत्र घर में आर्थिक उन्नति और भौतिक सुख-संपदा लेकर आता है। श्रीयंत्र आर्थिक ऋण से मुक्ति दिलाता है और साथ ही मनोकामनाएं भी पूरी करता है।

डिसक्लेमर

इस लेख में निहित किसी भी जानकारी/सामग्री/गणना की सटीकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/मान्यताओं/धर्मग्रंथों से संग्रहित कर ये जानकारियां आप तक पहुंचाई गई हैं। हमारा उद्देश्य महज सूचना पहुंचाना है, इसके उपयोगकर्ता इसे महज सूचना समझकर ही लें। इसके अतिरिक्त, इसके किसी भी उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता की ही रहेगी। ‘