Dharma Remedy Articles

शारदीय नवरात्रि : शुरू हो रहा है नवरात्रि,जानें पूजा- विधि और मुहूर्त…

121views

 

शारदीय नवरात्रि : शुरू हो रहा है नवरात्रि,जानें पूजा- विधि और मुहूर्त…

Navratri 2022 Start and End Date : इस साल शारदीय नवरात्रि 26 सितंबर से 5 अक्तूबर तक दुर्गा विसर्जन और विजय दशमी तक रहेगी। 26 सितंबर 2022 से शक्ति आराधना का पर्व शारदीय नवरात्रि प्रारंभ होने जा रहा है। शारदीय नवरात्रि पर देवी दुर्गा की पूजा और साधना की जाती है।

इसके अलावा देवी के नौ अलग-अलग रूपों की पूजा होती है हिंदू धर्म में मां शक्ति की उपासना के लिए नवरात्रि पर्व का विशेष महत्व है। नवरात्रि में 9 दिनों का अनुष्ठान रख माता के 9 रूपों की पूजा-उपासना की जाती है। नवरात्रि के दौरान घरों में कलश स्थापना कर माता के पाठ करने से मां बेहद प्रसन्न होती हैं।

ALSO READ  इस दिशा में रखें मंदिर,आएगी खुशहाली और समृद्धि

चलिए नवरात्रि के पूरे 9 दिनों को विस्तार से जानते हैं। इस साल नवरात्रि की शुरुआत 26 सितंबर से हो रही है। जो कि 5 अक्टूबर तक चलेगी। इस दौरान भक्तों द्वारा जगह-जगह पर माता की भव्य मूर्तियां बिठाई जाती हैं।

जानें कब से है नवरात्री 

पंचांग के अनुसार, वैसे तो पूरे साल में कुल 4 नवरात्रि आते हैं। जिनमें दो गुप्त, एक चैत्र नवरात्रि और एक शारदीय नवरात्रि शामिल हैं।अंग्रेजी कैलेंडर के अनुसार, इस साल 26 सितंबर से लेकर 5 अक्टूबर तक शारदीय नवरात्र रहने वाला है।

पहला दिन) – 26 सितंबर, प्रतिपदा तिथि, मां शैलपुत्री की पूजा
(दूसरा दिन) – 27 सितंबर, द्वितीया तिथि, मां ब्रह्मचारिणी की पूजा
(तीसरा दिन) – 28 सितंबर, तृतीया तिथि, मां चंद्रघंटा की पूजा
चौथा दिन)- 29 सितंबर, चतुर्थी तिथि, मां कुष्मांडा की पूजा
(पांचवा दिन)- 30 सितंबर, पंचमी तिथि, मां स्कंदमाता की पूजा
(छठां दिन)- 1 अक्टूबर, षष्ठी तिथि, मां कात्यायनी की पूजा
(सातवां दिन) – 2 अक्टूबर, सप्तमी तिथि, मां कालरात्रि की पूजा
(आठवां दिन) – 3 अक्टूबर, अष्टमी तिथि, मां महागौरी पूजा
(नौंवा दिन) – 4 अक्टूबर, नवमी तिथि, मां सिद्धिदात्री की पूजा
(दसवां दिन) – 5 अक्टूबर, दशमी तिथि, विजया दशमी, विसर्जन

ALSO READ  Diwali 2022 : जानें,लक्ष्मी पूजन की विधि और शुभ मुहूर्त

नवरात्रि के दिनों में मां दुर्गा हिमालय से पृथ्वी लोक में आकर भक्तों के घरों में 9 दिनों तक विराजमान होती हैं। इन दिनों भक्त उपवास या फलाहार कर मां शक्ति के 9 स्वरूपों की पूजा-अर्चना करते हैं। इसके अलावा गांव से लेकर शहर तक हर जगह बड़े-बड़े पंडाल और माता की आकर्षक प्रतिमाएं स्थापित की जाती है।