Vastu

किचन की दिशा में होना चाहिए ? जानिए वास्तु शास्त्र के अनुसार…

138views

किचन की दिशा में होना चाहिए ? जानिए वास्तु शास्त्र के अनुसार…

वास्तु में किचन अग्नि तत्व का प्रतिनिधित्व करता है। और अग्नि पंचतत्व (वायु, जल, अग्नि, अंतरिक्ष और पृथ्वी) का एक हिस्सा है। इसलिए घर में किचन सही जगह पर होना चाहिए। वास्तु शास्त्र के अनुसार रसोई की सही स्थिति सुनिश्चित करने के लिए आपको जो कुछ भी ध्यान में रखना है वह यहां है।वास्तु के अनुसार सबसे अच्छी रसोई की स्थिति आपके घर के दक्षिण-पूर्व या उत्तर-पश्चिम दिशा में है। इसके पीछे कारण यह है कि दक्षिण से पश्चिम और उत्तर से पूर्व की ओर बहने वाली हवा आग से नुकसान नहीं पहुंचाएगी।

दक्षिण-पूर्व या उत्तर-पश्चिम दिशा चुनें

वास्तु के अनुसार सबसे अच्छी रसोई की स्थिति आपके घर के दक्षिण-पूर्व या उत्तर-पश्चिम दिशा में है। इसके पीछे कारण यह है कि दक्षिण से पश्चिम और उत्तर से पूर्व की ओर बहने वाली हवा आग से नुकसान नहीं पहुंचाएगी।

रसोई के लिए रंग योजना

किचन के लिए वास्तु के रंगों का चुनाव सोच-समझकर और सावधानी से करना चाहिए। सफेद रंग सूरज की प्राकृतिक किरणों को सोख लेते हैं और जहां आप खाना बनाते हैं उस जगह को चमकाते हैं। नारंगी, पीला और लाल जैसे गर्म रंग पर्यावरण और भूख को उत्तेजित करते हैं। बर्फीले नीले और नरम गुलाबी जैसे हल्के रंग भोजन को अधिक पौष्टिक बनाते हैं।

दरवाजों और खिड़कियों की सर्वोत्तम स्थिति

चूँकि आग्नेय दिशा को खाना पकाने का स्थान सबसे अच्छा माना जाता है, इसलिए प्रवेश द्वार केवल उत्तर या पश्चिम दिशा से ही हो सकता है। किचन में मुख्य खिड़की पूर्व की ओर इस प्रकार होनी चाहिए कि सुबह की सूर्य की किरणें उसे सेनेटाइज करें। छोटी खिड़कियां दक्षिण दिशा में लगाई जा सकती हैं।

रसोई गैस चूल्हे के लिए वास्तु टिप्स
वास्तु के अनुसार रसोई घर का आग्नेय कोण चूल्हा रखने के लिए आदर्श होता है। हालाँकि, ध्यान दें कि खाना बनाते समय आपका मुख पूर्व की ओर होना चाहिए। भोजन तैयार करते समय लाभकारी किरणों को सोखने का विचार है।रसोई गैस चूल्हे के लिए वास्तु टिप्सखाना पकाने के हॉब का स्थानयह आवश्यक है कि खाना पकाने के चूल्हे और सिंक को एक साथ न रखा जाए। अगर चूल्हा आग्नेय कोण में रखा है तो किचन सिंक ईशान कोण में रखना चाहिए।पानी के फिल्टर को किचन की ईशान कोण में रखना चाहिए। ऐसा इसलिए है क्योंकि ईशान कोण सूर्य की किरणों को सबसे पहले देखता है और सुरक्षित खपत के लिए पानी को जीवाणुरहित करता है।

विद्युत उपकरणों के लिए रसोई वास्तु टिप्स
रेफ्रिजरेटर को दक्षिण-पश्चिम या उत्तर-पश्चिम रसोई के कोने में रखना चाहिए। हालाँकि, माइक्रोवेव ओवन को पूर्व कोने में रखा जाना चाहिए। किचन में कोई भी एग्जॉस्ट फैन पूर्व की दीवारों पर लगाना चाहिए।रसोई-वास्तु-युक्तियाँ-बिजली के उपकरणों के लिएरसोई में बिजली के उपकरणों की नियुक्ति

कुकिंग हॉब के ऊपर स्टोरेज से बचें
गैस चूल्हे के ऊपर भंडारण से बचना चाहिए। इसे या तो खुला छोड़ दिया जाना चाहिए या चिमनी के साथ लगाया जाना चाहिए। चूल्हे के ऊपर कुछ भी रखने से भी आग लगने का खतरा हो सकता है।अवॉइड-स्टोरेज-एबव-द-कुकिंग-हॉबचूल्हे के ऊपर कुछ भी रखने से बचें

वास्तु शास्त्र क्या करें और क्या न करें
किचन में कभी भी टूटी-फूटी चीजें नहीं रखनी चाहिए। आपको किचन में दवाइयां रखने से भी बचना चाहिए। वैसे तो आप किचन में तुलसी या पुदीना के पौधे खिड़की की चौखट पर रख सकते हैं, लेकिन कांटेदार पौधे लगाने से बचें। पॉजिटिव वाइब बनाने के लिए किचन को हमेशा साफ रखना चाहिए।

भोजन क्षेत्र के लिए सही विकल्प

यह रसोई क्षेत्र नहीं है जो मायने रखता है; यहां तक कि भोजन क्षेत्र भी वास्तु शास्त्र के अनुसार होना चाहिए। यह ऊपरी मंजिल पर शौचालय के नीचे नहीं होना चाहिए। चूंकि प्रकाश सकारात्मक ऊर्जा पैदा करता है, इसलिए भोजन क्षेत्र को भी हल्के रंगों में रंगा जाना चाहिए।

वास्तु के अनुसार रसोई की स्थिति का सारांश

आरामदेह और समृद्ध खाना पकाने की जगह बनाने के लिए आप अपनी रसोई के लिए इन सरल युक्तियों का उपयोग कर सकते हैं। वास्तु के अनुसार किचन की सही स्थिति इसे नकारात्मक ऊर्जा से दूर रखती है और घर में खुशियां लाती है। यह परिवार के सदस्यों के बीच के बंधन को मजबूत करने में भी मदद करता है, उनके संघर्ष और गलतफहमियों को कम करता है।