astrologerAstrology

मंगली दोष का निरस्तीकरण कैसे करें,जानें

55views

 

मंगली दोष और निरस्तीकरण

मंगल ग्रह की कतिपय स्थितियाॅ ही मंगली दोष का मुख्य कारण हैं। यदि मंगल लग्न, द्वितीय, चतुर्थ, सप्तम, अष्टम, और द्वादश भावगत हो, तो जातक मंगली होता है। हमारे अनुभव के आधार पर कन्याओं के जन्मांग में लग्न, द्वितीय, चतुर्थ, पंचम, सप्तम, अष्टम और द्वादश भावगत मंगल होने पर उनके विवाह में समस्याएँ आती हैं। अतः मंगल की इन स्थितियों को मंगली दोष से रेखांकित किया जाना चाहिए।

पुरूषों की कुण्डली में लग्न, चतुर्थ, सप्तम, और द्वादश भावगत मंगल की स्थिति को ही मंगली दोष से पीड़ित समझना चाहिए। इस विषयपर हमारा वृहद् शोध प्रबन्ध ’’एन इन्साइट इन टू कुजादोष’’ का अध्ययन करना उपयुक्त होगा।

ALSO READ  ग्रह दोष मुक्ति के लिए करें ज्योतिष उपाय

अग्रांकित श्लोक के आधार पर यह सुगमता से समझा जा सकता है कि सामान्य रूप से मंगली दोष से आक्रांत जन्मांगो में कब और किन स्थितियों में मंगली दोष की अशुभता से जातक या जातिका की रक्षा होगी।