Astrology
Archive

Category: Other Articles

बढ़ते सामाजिक अपराध का ज्योतिष कारक

मनुष्य एक सामाजिक प्राणी है। वह समाज का एक सदस्य है और समाज के अन्य सदस्यों के प्रति प्रतिक्रिया करता है, जिसके फलस्वरूप समाज के सदस्य उसके प्रति प्रक्रिया करते हैं। यह प्रतिक्रया उस समय प्रकट होती है जब समूह के सदस्यों के जीवन मूल्य तथा आदर्श ऊंचे हों, उनमें…

अमरनाथ: श्रद्धा और रोमांच की यात्रा

 पहाड़, नदी, झरने, सफेद चमकती बर्फ, खूबसूरत घाटियां और बर्फ से जमी हुई नदियों से गुजरना। इतना ही काफी है अमरनाथ के सफर को बयां करने के लिए। हालांकि इस साल यात्रा के लिए रजिस्ट्रेशन फिलहाल बंद हो चुका है लेकिन जिन्होंने पहले ही रजिस्ट्रेशन करा लिया है उनकी यात्रा…

मेरी तो किस्मत ही खराब है

पुरूषार्थ का महत्व भाग्य से अधिक है साथ ही अधिकांश लोगो की मान्यता होती है कि भाग्य नाम की कोई चीज नहीं होती जितना कर्म किया जाता है उसी के अनुरूप फल मिलता है किंतु जीवन की कई अवस्थाओं पर नजर डाले तो भाग्य की धारणा से इंकार नहीं किया…

पितृ ऋण, देव ऋण,आचार्य ऋण, मातृ ऋण

 वैदिक काल से मान्यता है कि किसी भी मानव के जीवन में पितृ ऋण, देव ऋण, आचार्य ऋण, मातृऋण के कारण जीवन में असफलता तथा हानि बीमारी का सामना करना पड़ता है। माना जाता है कि इंसान को अपनी जिंदगी में कर्ज, फर्ज और मर्ज को कभी नहीं भूलना चाहिए।…

इस संसार से पलायन करने के दो मार्ग हैं- एक प्रकाश का और दूसरा अंधकार का…

इस संसार से पलायन करने के दो मार्ग हैं- एक प्रकाश का और दूसरा अंधकार का। जब मनुष्य प्रकाश मार्ग से जाता है तो वह वापस नहीं आता और अंधकार मार्ग से जाने वाले को पुन: लौट कर आना होता है। (गीता – 8/26) हम इंसानों के पास गीता के…

सामाजिक विकास से संबंधित ज्योतिष कारक

मनुष्य एक सामाजिक प्राणी है। वह समाज का एक सदस्य है और समाज के अन्य सदस्यों के प्रति प्रतिक्रिया करता है, जिसके फलस्वरूप समाज के सदस्य उसके प्रति प्रक्रिया करते हैं। यह प्रतिक्रया उस समय प्रकट होती है जब समूह के सदस्यों के जीवन मूल्य तथा आदर्ष ऊॅचे हों, उनमें…

कृष्णमूर्ति पद्धति

 भौतिक जगत की तरह मानव ने अध्यात्म और दर्शन में भी कई महत्वपूर्ण अनुसंधान किये हैं। अध्यात्म और दर्शन से ही जुड़ा हुआ विषय है ज्योतिष। मानव के अनुसंधानात्मक प्रवृति से ज्योतिष भी अछूता नहीं रहा है। ज्योतिषशास्त्रियों ने अपने ज्ञान और अनुसंधान से इसमें कई नई चीजों को शामिल…

गर्भाधारण संस्कार

हमारे शास्त्रों में मान्य सोलह संस्कारों में गर्भाधान पहला है। गृहस्थ जीवन में प्रवेश के उपरान्त प्रथम कर्तव्य के रूप में इस संस्कार को मान्यता दी गई है। ग्रहस्थ्य जीवन का प्रमुख उद्देश्य श्रेष्ठ सन्तानोत्पत्ति है। उत्तम संतति की इच्छा रखनेवाले माता-पिता को गर्भाधान से पूर्व अपने तन और मन…

बुधवार को गणेश जी बरसाएंगे कृपा, अगर सुनेंगे उनके भाव विभोर कर देने वाले ये भजन और आरती

Ganesha bhagwaan bhajan aarti: हफ्ते का हर दिन किसी ना किसी देवी देवता को समर्पित होता है। आज बुधवार है तो ऐसे में यह दिन गणपति जी की पूजा का है। भगवान गणेश दुखों का नाश और संकट दूर करने वाले देवता माने गए हैं। इनकी पूजा सभी देवी देवताओं…

कैसे बनते हैं अंधविश्वास

आदिकाल में मनुष्य का क्रिया क्षेत्र संकुचित था इसलिए अंधविश्वासों की संख्या भी अल्प थी। ज्यों ज्यों मनुष्य की क्रियाओं का विस्तार हुआ त्यों-त्यों अंधविश्वासों का जाल भी फैलता गया और इनके अनेक भेद-प्रभेद हो गए। अंधविश्वास सार्वदेशिक और सार्वकालिक हैं। विज्ञान के प्रकाश में भी ये छिपे रहते हैं।…

इंदौर का गणेश मंदिर, जहां बुधवार को दीवार पर उल्टा स्वास्तिक बनाने पर होता है चमत्‍कार

इंदौर में विजय नगर से कुछ दूर खजराना चौक के पास ही एक मंदिर है खजराना मंदिर। ये मंदिर गणपति जी का सबसे प्रसिद्ध मंदिर है। बताया जाता है कि इस प्राचीन मंदिर का निर्माण अहिल्या बाई होल्कर ने कराया था और इस मंदिर में गणपति जी केवल सिंदूर से…

जानें, पीले रंग को क्यों माना जाता है शुभ, क्या है इसका महत्व?

पीले रंग को शुभ क्यों माना जाता है और इस रंग को ज्योतिष में खास महत्व क्यों दिया जाता है. जानिए सारे सवालों के जवाब. अक्सर लोग शुभ कार्यों में पीले रंग के वस्त्र धारण करते हैं. ज्योतिष में भी पीले रंग को खास महत्व दिया गया है. पीले रंग…

किस्मत संवारने के लिए करें रोटी के ये उपाय

रोटी, कपड़ा और मकान यह इंसान की 3 सबसे पहली जरुरत है. रोटी के कुछ ऐसे उपाय हमें किताबों में मिलते हैं जो आश्चर्य में डाल देते हैं. आइए जानते हैं कुछ ऐसे टोटके रोटी के, जो हमारा नसीब भी बदल सकते हैं. 1. घर की रसोई में पहली रोटी…

सपनों का सच और ज्योतिष

सपनों की दुनिया भी बड़ी अजीब होती है। हर इंसान अपनी जिंदगी में सपने जरूर देखता है। स्वप्न जरूरी नहीं कि अच्छे या बुरे ही हों ये कभी सुहावने तो कभी डरावनें कभी सुंदर तो कभी परेशान करने वाले कुछ भी हो सकते हैं कभी सच्चाई के करीब तो कभी…

बुरा जो करें, सो बुरा पावें

पुरूषार्थ का महत्व भाग्य से अधिक है साथ ही अधिकांष लोगो की मान्यता होती है कि भाग्य नाम की कोई चीज नहीं होती जितना कर्म किया जाता है उसी के अनुरूप फल मिलता है किंतु जीवन की कई अवस्थाओं पर नजर डाले तो भाग्य की धारणा से इंकार नहीं किया…

इन गलतियों को करने से घर में होता है दरिद्रता का वास

शुक्र ग्रह और चंद्रमा की पूजा करने से महालक्ष्मी की विशेष कृपा प्राप्त होती है. लेकिन कुछ कार्यों के करने से मां लक्ष्मी नाराज हो जाती हैं और घर में दरिद्रता का वास होने लगता है, इसलिए भूलकर भी इन कार्यों को ना करें. जन्म कुंडली में शुक्र ग्रह और…

मोर पंख में है नवग्रह का वास, जानें इससे किस्‍मत के दरवाजे खोलने के अचूक उपाय

मोर पंख को एक पवित्र और आध्यात्मिक चीज माना जाता है। हिंदुओं के पवित्र धर्मग्रंथों में भी मोर पंख का उल्लेख किया गया गया। मोर पंख सिर्फ सजावट में ही काम नहीं आता है बल्कि जिंदगी में आने वाली समस्याओं से बचने के लिए भी टोटके के रूप में मोरपंख…

ऐसी आंखों के रंग वाले लोग होते है प्रिय, वहीं इस रंग की आंखों वाले लोगों से रहें सावधान

सामुद्रिक शास्त्र में आपके शरीर के हर एक अंग से कुछ न कुछ बताया जा सकता है। शरीर के विभिन्न अंग हमारे व्यक्तित्व के बारे में क्या कहते हैं, किसी व्यक्ति का स्वभाव कैसा है, वह किस काम में अधिक निपुण है, इसी तरह की बहुत-सी जानकारी हमें मिल सकती…

Mysterious temple: इंदौर का गणेश मंदिर, जहां बुधवार को दीवार पर उल्टा स्वास्तिक बनाने पर होता है चमत्‍कार

स्वास्तिक बनाना बहुत शुभ होता है, लेकिन आपको पता है इंदौर में गणपति जी का एक ऐसा मंदिर हैं जहां मनोकामना पूर्ति के लिए उल्टा स्वास्तिक बनाना होता है। तो आइए गणपति जी के इस खास मंदरि के बारे में जानें। Khajrana ganesh mandir indore: इंदौर में विजय नगर से…

छत्तीसगढ़ का प्रयाग: राजिम कुंभ

श्रद्घालुओं की अनगिनत आस्था, संतों का आशीर्वाद और कलाकारों के समर्पण का ही परिणाम है कि राजिम-कुंभ ने देश में अपनी पहचान नए धार्मिक और सांस्कृतिक संगम के तौर पर कायम कर की है। गुजिस्ता कुछ सालों में राजिम कुंभ की ख्याति देश-दुनिया में फैली है, यह मध्य भारत का…

राजिम की कथा

त्रेता युग से भी एक युग पहले अर्थात सतयुग में एक प्रजापालक अनन्य भक्त था। उस समय यह क्षेत्र पद्मावती क्षेत्र या पद्मपुर कहलाता था। इसके आसपास का इलाका दंडकारण्य के नाम से प्रसिद्ध था। यहां अनेक राक्षस निवास करते थे। राजा रत्नाकर समय-समय पर यज्ञ, हवन, जप-तप करवाते रहते…

जीवन में साकारत्मक उर्जा बढ़ाने के उपाय –

यजुर्वेद तथा भगवदगीता के अनुसार हमारा व्यवहार, विचार, भोजन और जीवनषैली तीन चीजों पर आधारित होती है वह है सत्व, तमस और राजस। सात्विक विचारों वाला व्यक्ति निष्चित स्वभाव का होता है जोकि उसे सृजनषील बनाता है वहीं राजसी विचारों वाला व्यक्ति महत्वाकांक्षी होता है जोकि स्वभाव में लालच भी…

योजनाबद्ध कार्य में महत्वपूर्ण कारक ज्योतिषीय गणना

किसी भी जातक के जन्म कुंडली में ग्रहों की स्थिति के अलावा उसके ग्रह दषाओं के अनुरूप उसका व्यवहार तथा निर्धारित होता है, जिसके कारण कुंडली के विष्लेषण के समय उस जातक के ग्रह दषाओं का असर उसके जीवन मे महत्वपूर्ण होता है। चूॅकि इंसान के जीवन में ग्रहो का…

परीक्षा का तनाव -कारण और निवारण

परीक्षा के समय ज्यादा से ज्यादा अंक लाने की होड़, साथी बच्चों से तुलना, लक्ष्य का पूर्व निर्धारित कर उसके अनुरूप प्रदर्षन तथा इसी प्रकार के कई कारण से परीक्षा के पहले बच्चों के मन में तनाव का कारण बनता है। परीक्षा में अच्छे अंक की प्राप्ति के लिए किया…

नाले में नहाओ भूत-प्रेत भगाओ

घुटी-घुटी चीखें, हर तरफ सिसकियों की आवाज, रोना-कलपना, चीखना-चिल्लाना। यह भयावह मंजर है जावरा की हुसैन टैकरी का। इस टेकरी के बारे में हमने काफी कुछ सुन रखा था। सोचा, क्यों न सबसे पहले जायजा लिया जाए इस टेकरी का, जहां भूत-प्रेत भगाने के नाम पर लोगों से नाना प्रकार…

परीक्षा परिणाम में मनचाहा परिणाम पाने हेतु ज्योतिष उपाय

हर माता-पिता की एक ही कामना होती है कि उसके बच्चे उच्च षिक्षा ग्रहण करें, हर परीक्षा में उच्च अंक प्राप्त करें। इसके लिए वे हर प्रकार से प्रयास करते हैं साथ ही हर वह उपाय करते हैं, जिससे उनकी मनोकामना पूरी हो किंतु हर संभव प्रयास करने के उपरांत…

दरिद्रता एक अभिशाप है……..

क्या आप भी कष्ट से जीवन-यापन कर रहे हैं?????????? जीवन में धन की कमी या निर्धनता को दरिद्रता कहते हैं। यह एक ऐसा दोष है, जो न केवल मानव जीवन में पग-पग पर कठिनाइयां पैदा करता है, बल्कि यह व्यक्तित्व एवं व्यक्ति की छवि को विकृत भी कर देता है।…

कैंसर रोगी अपना वास्तु आज ही देखें ………..

आज मनुष्य कैंसर जैसी भयावह बीमारी से जूझ रहा है . क्यों हम स्वस्थ ,प्रसन्नचित्त ,निरोगी नहीं रह पाते ? हम अपनी सांस्कृतिक विरासत को भुलाकर पाश्चात्य सभ्यता को जो अपनाते जा रहे है .परिणाम तो भोगने ही होंगे .कही ऐसा तो नहीं घर का कोई वास्तुदोष हमें परेशान कर…

नकारात्मक विचार मन में क्यों आते हैं – कारण एवं उपाय

आधुनिक भागदौड़ के इस जीवन में प्रायः सभी व्यक्तियों को चिंता सताती रहती है। हर आयुवर्ग तथा हर प्रकार के क्षेत्र से संबंधित अपनी-अपनी चिंता होती हैं। चिंता को भले ही हम आज रोग ना माने किंतु इसके कारण कई प्रकार के लक्षण ऐसे दिखाई देते हैं जोकि सामान्य रोग…

ज्यों-ज्यों मन शांत होता जायेगा, त्यों-त्यों उसमें परमात्मा का सुख उभरता जायेगा

ज्यों-ज्यों मन शांत होता जायेगा, त्यों-त्यों उसमें परमात्मा का सुख उभरता जायेगा जन्म-मरण मन की चंचलता और आसक्ति का फल है। दुःख-क्लेश का मूल है, मन की चंचलता और आसक्ति। गीता में अर्जुन कहता है श्रीकृष्ण सेः चंचलं हि मनः कृष्ण प्रमाथि बलवद् दृढ़म्। तस्याहं निग्रहं मन्ये वायोरिव सुदुष्करम्।। ʹहे…